पौंग डैम विदेशी परिंदों से गुलजार, अब तक 21 हजार पहुंचे : The Dainik Tribune

पौंग डैम विदेशी परिंदों से गुलजार, अब तक 21 हजार पहुंचे

भोजन की तलाश में स्थानीय पंछी भी करने लगे बांध का रुख

पौंग डैम विदेशी परिंदों से गुलजार, अब तक 21 हजार पहुंचे

पौंग डैम

जीसी पठानिया/निस

धर्मशाला, 24 नवंबर

सर्दियों के आगमन के साथ ही वॉटर डिपेंडेंट विदेशी परिंदों ने पौंग डैम वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी में डेरा जमाना शुरू कर दिया है। अब तक 21 हजार से अधिक विदेशी परिंदे पौंग डैम पहुंच चुके हैं। इसके अतिरिक्त साढ़े पांच हजार से अधिक स्थानीय परिंदें भी सेंक्चुरी एरिया पहुंच चुके हैं। सबसे अधिक विदेशी परिंदे बुहल खड्ड से चाट्टा वॉच में देखे जा सकते हैं, जबकि स्थानीय परिंदों की सबसे अधिक संख्या देहरा ब्रिज से लेकर डाडा खड्ड तक देखी जा सकती है। सर्दियों में कई देशों में बर्फबारी होने के चलते भोजन की तलाश में विदेशी परिंदे पौंग डैम वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी का रुख करते हैं। वन्य प्राणी विभाग के अनुसार 16 नवंबर तक पौंग डैम वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी में 21473 विदेशी परिंदे, जबकि 5898 स्थानीय परिंदे पहुंच चुके हैं।

चीफ कंजर्वेटर आफ वाइल्ड लाइफ सर्कल धर्मशाला उपासना पटियाल ने बताया कि पौंग डैम वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी एरिया में इस साल पहुंचे विदेशी परिंदे अच्छी सेहत में हैं। विभाग द्वारा अब तक जो गणना की गई है, उसके अनुसार अभी तक पौंग डैम वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी एरिया में 27371 परिंदे पहुंचे हैं, जिनमें 21473 विदेशी और 5898 स्थानीय परिंदे पहुंचे हैं जो कि पानी पर निर्भर होते हैं और पानी के आसपास पाए जाते हैं।

इन प्रमुख एरिया में आते हैं प्रवासी पक्षी

पौंग डैम वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी में ज्वाली, नगरोटा सूरियां, भटोली फकोरियां, देहरा, धमेटा बीट, पौंग डैम बीट, संसारपुर टैरस बीट, डाडासीबा बीट प्रमुख हैं, जहां विदेशी व देश के अन्य राज्यों में पाए जाने वाले परिंदे पहुंचते हैं। ज्वाली बेल्ट के बुहल खड्ड से देहरी खड्ड तक 3484 विदेशी और 704 स्थानीय, देहरी खड्ड से गज खड्ड में 1195 विदेशी व 233 स्थानीय, गज खड्ड से जटां दा नाला में 3011 विदेशी व 537 स्थानीय, रैंसर में 120 विदेशी व 59 स्थानीय, जटां दा नाला से लेकर बनेर खड्ड तक 691 विदेशी व 525 स्थानीय, बनेर खड्ड से डोला नाला तक 541 विदेशी व 144 स्थानीय, डोला नाला से देहरा तक 381 विदेशी व 196 स्थानीय, देहरा ब्रिज से डाडा खड्ड तक 1451 विदेशी व 838 स्थानीय, बुहल खड्ड से चाट्टा वॉच तक 3448 विदेशी व 634 स्थानीय, चाट्टा से पीर बाबा तक 3364 विदेशी व 183 स्थानीय, धमेटा से पौंग डैम तक 1631 विदेशी व 252 स्थानीय, घाटी से शाहनहर बैरेग तक 538 विदेशी व 429 स्थानीय, शाहनगर बैरेग से स्थाना तक 1074 विदेशी व 897 स्थानीय, पौंग डैम से स्यूल खड्ड तक 196 विदेशी व 127 स्थानीय और स्यूल खड्ड से डाडा खड्ड तक 347 विदेशी व 140 स्थानीय परिंदे इन दिनों विचरण कर रहे हैं।

पक्षी प्रेमी भी करने लगे सेंक्चुरी का रुख

विदेशी परिंदों के आगमन के साथ ही सेंक्चुरी एरिया में पक्षी प्रेमियों और बर्ड वॉचर्स की आमद भी बढऩे लगती है। अभी पक्षियों की आमद शुरू हुई है, ऐसे में पक्षी प्रेमी भी सेंक्चुरी का रुख करने लगे हैं। पौंग डैम में आयोजित किए जाने वाले बर्ड फेस्टीवल में भी काफी संख्या में पक्षी प्रेमी और पक्षियों को देखने की चाहत रखने वाले लोग पहुंचते हैं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

साल के आखिर में नौकरी के नये मौके

साल के आखिर में नौकरी के नये मौके

समझ-सहयोग से संभालें रिश्ते

समझ-सहयोग से संभालें रिश्ते

धुंधलाए अतीत की जीवंत झांकी

धुंधलाए अतीत की जीवंत झांकी

प्रेरक हों अनुशासन और पुरस्कार

प्रेरक हों अनुशासन और पुरस्कार

सर्दी में गरमा-गरम डिश का आनंद

सर्दी में गरमा-गरम डिश का आनंद

यूं छुपाए न छुपें जुर्म के निशां

यूं छुपाए न छुपें जुर्म के निशां

मुख्य समाचार

फौलादी जज्बे से तोड़ दी मुसीबतों की बेड़ियां...

फौलादी जज्बे से तोड़ दी मुसीबतों की बेड़ियां...

अनहोनी को होनी कर दे...

हनोई में एक बौद्ध वृक्ष, जड़ें जुड़ी हैं भारत से!

हनोई में एक बौद्ध वृक्ष, जड़ें जुड़ी हैं भारत से!

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की बिसारी मधुर स्मृति को ताजा किया दैनि...

शहर

View All