यमुनानगर तीन दर्जन श्मशान घाट, गैस संचालित मात्र एक : The Dainik Tribune

मुक्ति मांग रहे श्मशान

यमुनानगर तीन दर्जन श्मशान घाट, गैस संचालित मात्र एक

एनजीटी के आदेशों के बाद चलाया जा रहा जागरूकता अभियान

यमुनानगर तीन दर्जन श्मशान घाट, गैस संचालित मात्र एक

यमुनानगर में यमुना किनारे श्मशान घाट, जहां गैस पर आधारित सिस्टम से होता है अंतिम संस्कार। -हप्र

सुरेंद्र मेहता /हमारे प्रतिनिधि

यमुनानगर, 19 अप्रैल

यमुनानगर जिले की आबादी लगभग 15 लाख है। अकेले शहरी इलाकों में 4 दर्जन से अधिक श्मशान घाट हैं, जिसमें मात्र एक श्मशान घाट में ही गैस से संस्कार किये जाने का प्रावधान है। उसमें भी मात्र 20% लोग ही गैस से संस्कार करवाना पसंद करते हैं। यमुना के किनारे स्थित श्मशान भूमि पर प्रतिदिन तीन से चार लोगों का अंतिम संस्कार किया जाता है। इनमें से बहुत कम ऐसे होते हैं जो गैस पर आधारित सिस्टम से संस्कार करवाते हैं जबकि इसकी पूरी व्यवस्था है।

श्री यमुना जी घाट श्मशान भूमि चेरिटेबल ट्रस्ट के उपाध्यक्ष जीएस जैन का कहना है कि लोगों में अंधविश्वास के बावजूद सभी सदस्य अपने स्तर पर लोगों का समझाने का प्रयास करते हैं। उन्होंने कहा कि जहां लकड़ी से जहां पर्यावरण दूषित होता है, वहीं आर्थिक रूप से भी नुकसान होता है। जैन ने कहा कि गैस पर अंतिम संस्कार से कोई नुकसान नहीं है। उन्होंने कहा कि बस अड्डे के नजदीक श्मशान घाट में गैस पर अंतिम संस्कार के लिए प्रोजेक्ट तैयार किया जा रहा है।

श्मशान घाट सभा के अध्यक्ष सुशील वोहरा का कहना है कि इसके लिए लगभग 50 लाख खर्चा आएगा। उन्होंने बताया कि जहां वर्कशॉप रोड से श्मशान घाट का रास्ता सही नहीं है। यमुनानगर जिला में एनजीटी के आदेशों के बाद अन्य श्मशान घाट में भी गैस आधारित सिस्टम से संस्कार करवाने के लिए चर्चाएं होने लगी हैं। हरियाणा के वन एवं पर्यावरण मंत्री कंवर पाल गुर्जर ने कहा कि इसके लिए सभी को सहयोग करना चाहिए।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

युग-युग लुभाते प्रेम प्यारे राम

युग-युग लुभाते प्रेम प्यारे राम

'कुर्सी' की सवारी, तलवार से बदली किस्मत की रेखा

'कुर्सी' की सवारी, तलवार से बदली किस्मत की रेखा

नींद न मुझको आए...

नींद न मुझको आए...

जुत्ती कसूरी

जुत्ती कसूरी