इंटर स्टेट बॉर्डर पर सख्ती, मास्क नहीं पहना तो हरियाणा में एंट्री नहीं

इंटर स्टेट बॉर्डर पर सख्ती, मास्क नहीं पहना तो हरियाणा में एंट्री नहीं

गुरुग्राम में शनिवार को सदर बाजार में एक मेडिकल कर्मी कोरोना सैंपल लेते हुए। -एस चंदन

चंडीगढ़, 21 नवंबर (ट्रिन्यू)

हरियाणा में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों से निपटने के लिए राज्य सरकार सख्त हो गई है। एक बार फिर से इंटर-स्टेट बाॅर्डर पर सख्ती करने के आदेश दिए गए हैं, इस दौरान मास्क न पहनने वाले व्यक्ित का चालान तो होगा ही उसे एंट्री से भी रोक दिया जाएगा।  प्रदेश के गृह व स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने सभी जिलों के डीसी-एसपी को इस बाबत विशेष हिदायतें दी हैं। उन्होंने दो-टूक कहा है कि जिलों के अधिकारी सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की पालना सख्ती से सुनिश्चित करें।

राष्ट्रीय राजधानी यानी नई दिल्ली में एक बार फिर से कोरोना मामलों की संख्या बढ़ी है। फरीदाबाद, गुरुग्राम, रोहतक, सोनीपत व झज्जर जिलों में मरीजों की संख्या बढ़ने के पीछे भी दिल्ली से निकटता को अहम कारण माना जा रहा है। इन जिलों के अलाव एनसीआर के और भी कई जिले हैं, जहां के लोगों का नियमित रूप से दिल्ली में आना-जाना होता है। गृह मंत्री ने दिल्ली के अलावा साथ लगते अन्य राज्यों के बाॅर्डर पर भी नाकाबंदी करने को कहा है।

विज ने राज्य के सभी एंट्री प्वांइट पर नाकाबंदी करके वाहनों की जांच करने तथा मास्क नहीं पहनने वाले यात्रियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश जारी किए हैं। सभी जिलों विशेषकर सीमावर्ती जिलों में पुलिस नाकाबंदी करके दूसरे राज्यों से हरियाणा में आने वाले लोगों की जांच करेगी। पड़ोसी राज्यों से आने वाले लोग अगर मास्क नहीं पहनेंगे तो उनके चालान किए जाएंगे।

स्वास्थ्य मंत्री ने निर्देश दिए गए हैं कि मास्क के संबंध में होने वाले चालान की अलग से रिपोर्ट तैयार करके मुख्यालय को भेजी जाए। विज ने सभी उपायुक्तों व पुलिस अधीक्षकों को प्रत्येक शहर के भीड़-भाड़ वाले क्षेत्रों में मास्क नहीं पहनने वालों के चालान करने के लिए विशेष टीमों का गठन करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि सभी शहरों की मार्केट, बस अड्डा, रेलवे स्टेशन आदि क्षेत्रों में पुलिस की टीमें मास्क नहीं पहनने वालों के चालान करेंगी। इस मामले में कोई ढील बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

विज ने जिला उपायुक्तों को निर्देश दिए हैं कि वह अपने क्षेत्र के सिविल सर्जनों तथा नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारियों के साथ बैठक करें। स्थानीय निकाय विभाग के माध्यम से जगह-जगह कोरोना जागरूकता बोर्ड लगाए जाएं और लोक संपर्क विभाग के माध्यम से शहरों व कस्बों में कोरोना जागरूकता एनाउंसमेंट करवाई जाए।

अगर जरूरत पड़ती है तो जिला उपायुक्त अपने स्तर पर पुलिस की मदद के लिए निकाय तथा स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों को तैनात कर सकते हैं ताकि मास्क नहीं पहनने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जा सके।

अलर्ट पर रहेंगे गुरुग्राम, सोनीपत और फरीदाबाद

दिल्ली में लगातार कोरोना केस बढऩे के बाद राजधानी से सटे हरियाणा के गुरुग्राम, फरीदाबाद तथा सोनीपत जिलों को अलर्ट किया गया है। गृहमंत्री ने आज गुरुग्राम तथा फरीदाबाद के पुलिस आयुक्तों से भी बात की। उन्होंने कहा कि दिल्ली से आने वाले प्रत्येक वाहन की जांच की जाए। इन वाहनों में मास्क के बगैर सवारी करने वाले लोगों का तुरंत प्रभाव से चालान किया जाए। इसके अलावा दिल्ली से आने वाले लोगों की थर्मल स्कैनिंग भी की जाएगी।

लॉकडाउन लगाने की स्थिति नहीं

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने साफ किया है कि कोरोना से बचाव के लिए दो ही काम हो सकते हैं। पहला लॉकडाउन और दूसरा गाइडलाइन का सख्ती से पालन करवाना। विज ने कहा कि अभी लॉकडाउन लगाने की स्थिति नहीं है लेकिन कोरोना गाइडलाइन का पालन करवाने के मामले में सख्ती बरतनी जरूरी है। इसलिए आने वाले दिनों में पुलिस, स्थानीय निकाय तथा स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना गाइडलाइन को लागू करवाने में सख्ती बरती जाएगी।

फतेहाबाद में 200 स्कूली बच्चों की रिपोर्ट आई नेगेटिव, 300 बच्चों के सैंपल लिए गए थे

फतेहाबाद (निस) : रतिया शहर के दो सरकारी स्कूलों के अलावा एक निजी स्कूल के करीब 300 बच्चों के लिए गए कोरोना सैंपल की पहली रिपोर्ट के तहत राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय तथा स्वामी दयानंद स्कूल के करीब 200 बच्चों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। इससे स्कूल प्रबंधकों के अलावा बच्चों के अभिभावकों ने काफी राहत महसूस की है। काबिलेगौर है कि हरियाणा के अनेक स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के पश्चात पूरे प्रदेश में हड़कंप मच गया था। इसके बाद शिक्षा विभाग ने ही हरियाणा के सभी स्कूलों में 30 नवंबर तक छुट्टी कर दी थी। स्वास्थ्य विभाग ने पिछले 2 दिनों के अंतराल में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय तथा स्वामी दयानंद स्कूल के करीब 500 से भी अधिक बच्चों के कोरोना सैंपल लिए गए थे।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

कोर्ट की सख्ती के बाद खाली होंगे आवास

कोर्ट की सख्ती के बाद खाली होंगे आवास

संदेह के खात्मे से विश्वास की शुरुआत

संदेह के खात्मे से विश्वास की शुरुआत

चलो दिलदार चलो...

चलो दिलदार चलो...

शहर

View All