यूपीएससी में हरियाणवियों की बल्ले-बल्ले

सफलता का कोई शार्टकट नहीं, मेहनत से मिलता है जिंदगी में मुकाम...

यूपीएससी में हरियाणवियों की बल्ले-बल्ले

सोनीपत में मंगलवार को यूपीएससी टॉपर प्रदीप सिंह को सीएम के निर्देश पर बधाई देते पहुंचे राजीव जैन। -हप्र

10 वीं कक्षा में दूसरे और 12 वीं कक्षा में स्कूल में पहले स्थान रहने वाले प्रदीप सिंह का कहना है कि सफलता का कोई शार्ट कट नहीं होता। मेहनत करनी ही पड़ती है। प्रदीप ने कहा कि जनसेवा का सबसे बड़ा माध्यम प्रशासन ही है। प्रशासन में रहकर विशेष कर किसानों के लिए कुछ खास करना चाहते हैं। सोनीपत के दीनबंधु छोटूराम विज्ञान एवं तकनीकी विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन करने वाले प्रदीप कहते हैं कि पिता साधारण किसान हैं। घर के आर्थिक हालात बेहद सामान्य थे। ऐसे में उसने 2012 में आयकर विभाग में इंस्पेक्टर की नौकरी लगने के लिए बाद नौकरी के साथ ही पढ़ाई भी की। वह यात्रा के दौरान भी पढ़ते थे। वह 9 बजे से शाम 6 बजे तक नौकरी करते और बाद में पढ़ाई में जुट जाते। प्रदीप बताते हैं कि पढ़ाई के लिए उनका कोई टाइम निर्धारित नहीं था। जब जहां समय मिला, पढ़ाई शुरू कर दी। वे लंच टाइम में भी जल्दी से निपटा कर पढ़ाई करने लगते थे। यही नहीं, यात्रा के दौरान भी पढ़ाई जारी रखते थे।

पुरुषोत्तम शर्मा/हप्र

सोनीपत, 4 अगस्त 

सोनीपत जिले के छोटे से गांव तेवड़ी के रहने वाले प्रदीप सिंह (प्रदीप मलिक) ने संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में देशभर में पहला स्थान पाया है। प्रदीप की इस उपलब्धि पर जहां परिवार गदगद है, वहीं नेताओं से लेकर रिश्तेदारों का यहां बधाई देने के लिए तांता लगा हुआ है।  फिलहाल, प्रदीप आयकर आयुक्त के पद पर नियुक्त हैं। वह यहां से छुट्टी लेकर यूपीएससी कर फिर से तैयारी कर रहे थे। इसी मेहनत का नतीजा है कि आज वह देश का टॉपर बन गए। प्रदीप सोनीपत के गांव तेवड़ी के पूर्व सरपंच सुखबीर सिंह के बेटा हैं। बच्चों की पढ़ाई के लिए उनके पिता वर्ष 2000 में गांव से सोनीपत में आकर रहने लगे थे। फिलहाल, वह ओमेक्स सिटी में रह रहे हैं।

प्रदीप के पिता, दादा सरपंच रह चुके हैं। इनके पिता सुखबीर सिंह की पुलिस में भी नौकरी लगी थी, लेकिन उन्होंने नौकरी छोड़ दी थी। प्रदीप के पिता सुखबीर ने बताया कि उनके तीनों बच्चे शुरू से ही पढ़ाई में शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन प्रदीप की दिलचस्पी कुछ ज्यादा ही थी। प्रदीप सिंह को पिछली बार यूपीएससी में 260 वीं रैंक मिली थी। इसके बाद उन्हें आईआरएस में चयनित किया गया। इधर, प्रदीप सिंह की उपलब्धि पर उनके घर बधाई देने के लिए सीएम के पूर्व मीडिया सलाहकार राजीव जैन पहुंचे और प्रदीप का मुंह मीठा कराया। सीएम ने भी ट्वीट कर प्रदीप को बधाई दी है। जैन ने बताया कि वह मुख्यमंत्री मनोहर लाल के निर्देश पर पहुंचे हैं तथा सोनीपत का गौरव बढ़ाने पर खुशी जताई। उन्होंने कहा कि ग्रामीण आंचल से निकल कर इस बेहतरीन उपलब्धि को हासिल करने से आज तेवड़ी गांव से लेकर सोनीपत, हरियाणा वासियों को नाज है। 

गठवाला खाप करेगी सम्मानित

गोहाना/रोहतक 4 अगस्त (निस)

मलिक गोत्र की नियंता गठवाला खाप के दादा बलजीत सिंह मलिक ने मंगलवार को कहा कि यूपीएससी की 2019 के टॉपर प्रदीप मलिक को जल्द ही सम्मानित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पूरे देश में सर्वप्रथम रहते हुए प्रदीप मलिक ने पूरी गठवाला खाप का मान-सम्मान बढ़ाया है। गोहाना हलके के विधायक जगबीर सिंह मलिक और पूर्व विधायक धर्मपाल सिंह मलिक ने भी टॉपर प्रदीप मलिक को उनकी कामयाबी पर बधाई दी है।

पिता ने कहा था आपकी ये मंजिल नहीं 

प्रदीप का कहना है कि आयकर विभाग में नौकरी लगने के बाद वह संतुष्ट हो गए थे, लेकिन उनके पिता ने कहा कि बेटा आपकी मंजिल केवल यहीं तक नहीं है। आगे भी पढ़े, तो सफल हो सकते हो। पिता की प्रेरणा से उसने पढ़ाई जारी रखी और उसी की नतीजा है कि आज वह यूपीएससी फतह कर पाया है। प्रदीप ने बताया कि उनकी छोटी बहन फिलहाल पढ़ाई कर रही है, जबकि बड़े भाई जीवन बीमा निगम में कार्यरत हैं। पूरे परिवार ने उनकी हमेशा मदद की और पढ़ाई के लिए मनोबल बढ़ाया।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

डिजिटल पेमेंट में सट्टेबाजी पर लगे लगाम

डिजिटल पेमेंट में सट्टेबाजी पर लगे लगाम

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश