कैथल मंडी में धान की खरीद न होने से गुस्साये किसानों ने हिसार-चंडीगढ़ नेशनल हाईवे किया जाम

कैथल मंडी में धान की खरीद न होने से गुस्साये किसानों ने हिसार-चंडीगढ़ नेशनल हाईवे किया जाम

कैथल में बुधवार को हिसार-चंडीगढ़ मार्ग पर जाम लगाते किसान। -हप्र

कैथल, 13 अक्तूबर (हप्र)

कैथल विस्तार मंडी में धान की खरीद न होने से गुस्साये किसानों ने हिसार-चंडीगढ़ नेशनल हाईवे पर जाम लगा दिया। जाम लगाने वाले भाकियू जिलाध्यक्ष होशियार गिल, उनके समर्थकों व किसानों का आरोप था कि कुछ दिनों से गुहला चीका के राईस मिलर कैथल में धान की खरीद कर रहे थे। उनकी खरीद से किसानों को एमएसपी से ज्यादा रेट भी मिल रहा था। उनका आरोप था कि बुधवार कैथल के राइस मिलरों ने प्रशासन के साथ मिलीभगत करके उनको कैथल मंडी से भगा दिया और स्वयं खरीद नहीं कर रहे हैं। अगर थोड़ी बुहत खरीद करते भी हैं तो वह भी औने-पौने दामों पर। किसानों ने प्रशासन और सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि जब तक धान की खरीद एमएसपी पर नहीं की जाएगी तब तक वे जाम नहीं खोलेंगे। जाम की सूचना पाकर मौके पर शहर पुलिस, अनाज मंडी चौकी पुलिस पहुंची। उन्होंने प्रदर्शनकारी किसानों को खूब समझाने का प्रयास किया लेकिन किसानों की जिद थी कि तब तक जाम नहीं खोला जाएगा जब तक धान की खरीद एमएसपी पर शुरू नहीं हो जाती है। अंत में एसडीएम संजय कुमार मौके पर पहुंचे। एसडीएम ने मोटी धान की खरीद की बोली शुरू करवा दी। उन्होंने आश्वासन दिया कि धान की खरीद 1960 रुपए से कम में नहीं खरीदी जाएगी। इसके बाद ही किसानों ने एसडीएम के आश्वासन के बाद जाम खोला। जाम के कारण वाहन चालकों व राहगीरों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

शाश्वत जीवन मूल्य हों शिक्षा के मूलाधार

शाश्वत जीवन मूल्य हों शिक्षा के मूलाधार

कानूनी चुनौती के साथ सामाजिक समस्या भी

कानूनी चुनौती के साथ सामाजिक समस्या भी

देने की कला में निहित है सुख-सुकून

देने की कला में निहित है सुख-सुकून

मुख्य समाचार

उत्तराखंड में मूसलाधार बारिश, 23 की मौत

उत्तराखंड में मूसलाधार बारिश, 23 की मौत

मौसम की मार नैनीताल का संपर्क कटा। यूपी में 4 की गयी जान

अपनी सियासी पार्टी बनाएंगे कैप्टन

अपनी सियासी पार्टी बनाएंगे कैप्टन

भाजपा के साथ सीटों के बंटवारे के लिए बातचीत को तैयार

दुर्भाग्य से यह देश का  यथार्थ : ऑक्सफैम

दुर्भाग्य से यह देश का  यथार्थ : ऑक्सफैम

भुखमरी सूचकांक  पाक, नेपाल से पीछे भारत