4 से खुलेंगे कॉलेज, ऑनलाइन दाखिले, पूरे स्टाफ की मौजूदगी जरूरी

4 से खुलेंगे कॉलेज, ऑनलाइन दाखिले, पूरे स्टाफ की मौजूदगी जरूरी

चंडीगढ़, 1 अगस्त (ट्रिन्यू)

हरियाणा सरकार ने प्रदेश के कॉलेजों में दाखिला प्रक्रिया शुरू करने का फैसला लिया है। 4 अगस्त से सभी कॉलेजों में प्रिंसिपल सहित पूरा स्टाफ मौजूद रहेगा। सीबीएसई के अलावा हरियाणा स्कूल एजुकेशन बोर्ड भिवानी के 12वीं के नतीजे घोषित होने के बाद यह निर्णय लिया गया है। कॉलेजों में केवल स्टाफ ही मौजूद रहेगा, विद्यार्थियों को अभी कॉलेज नहीं बुलाया गया है।

कोरोना संक्रमण को देखते हुए सरकार ने सभी कॉलेजों के प्राचार्यों को भी निर्देश दिए हैं कि वे सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का सख्ती से पालन कराएं। कॉलेजों में स्टाफ को दो गज की दूरी का पालन करना होगा और फेस मास्क अनिवार्य होगा। नियमित तौर पर कॉलेज को सेनेटाइज कराया जाएगा। उच्चतर शिक्षा विभाग के महानिदेशक अजीत बालाजी जोशी ने इस संदर्भ में सभी कॉलेजों के प्राचार्यों को लिखित में निर्देश जारी किए हैं। नये शैक्षणिक सत्र के लिए कॉलेजों में ऑनलाइन दाखिले का शैड्यूल जारी होगा। सभी संकायों के दाखिले ऑनलाइन ही होंगे।

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अभी तक स्कूल-कॉलेजों को लेकर किसी तरह की गाइडलाइन जारी नहीं की है। हरियाणा में सरकारी स्कूलों को भी 100 प्रतिशत स्टाफ के साथ फिर खोला जा चुका है। 10वीं से 12वीं तक की कक्षाएं भी 15 अगस्त के बाद शुरू करने की तैयारी है। मुख्यालय के निर्देश में कहा गया है कि संबंधित काॅलेज प्रिंसिपल सोशल डिस्टेंसिंग के साथ अध्यापन कार्य को शुरू करवाने के लिए जिम्मेदार होंगे। आगामी आदेश तक काॅलेजों में विद्यार्थियों का प्रवेश नहीं होगा। कॉलेज प्रिंसिपल को निर्देश दिए गए हैं कि वे तुरंत प्रभाव से टाइम टेबल तैयार करवाएं और सभी अध्यापकों का इसके अनुसार ऑनलाइन लेक्चर देना सुनिश्चित करें।

सीएससी में जा सकेंगे छात्र

सरकार ने काॅलेज के ऐसे विद्यार्थियों को भी सुविधा प्रदान की है जिनके पास ऑनलाइन कक्षाओं के लिए कंप्यूटर, लैपटाप व इंटरनेट की दिक्कत है। ऐसे विद्यार्थी नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) में जाकर ऑनलाइन कक्षा में भाग ले सकेंगे

नवंबर तक पूरा करना होगा 70% कोर्स

शिक्षा निदेशालय के निर्देश हैं कि इस तरह से पाठ्यक्रम शुरू किया जाए कि नवंबर माह तक ऑनलाइन प्रणाली के माध्यम से 70 फीसदी पाठ्यक्रम पूरा कर लिया जाए। इसमें पाठ्यक्रम के उस हिस्से को शामिल किया जाएगा, जिसमें विद्यार्थियों तथा प्राध्यापकों के आमने-सामने बैठने की जरूरत नहीं है। 30 फीसदी पाठ्यक्रम को लंबित छोड़ दिया जाएगा और इसे उस समय पूरा किया जाएगा जब विद्यार्थी काॅलेज में आने लगेंगे और पहले की तरह अध्यापन संभव हो सकेगा। 

इंजीनियरिंग डिग्री व डिप्लोमा के लिए भी ऑनलाइन दाखिले

हरियाणा के इंजीनियरिंग व टेक्निकल कॉलेजों में डिग्री व डिप्लोमा कोर्स के लिए ऑनलाइन एडमिशन होंगे। शनिवार को तकनीकी शिक्षा मंत्री अनिल विज ने इसकी शुरुआत की। विज ने कहा कि कोविड-19 के कारण उत्पन्न हालात को देखते हुए फिलहाल छात्र-छात्राओं को विभिन्न संस्थानों में जाकर दाखिला प्रक्रिया को पूर्ण करना कठिन है, वहीं बिना मूल प्रमाण-पत्रों के उनके प्रमाण-पत्र सत्यापन भी संभव नहीं है। इस स्थिति को सरल बनाने के लिए राज्य तकनीकी शिक्षा विभाग ने राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र हरियाणा की मदद से एक विशेष सॉफ्टवेयर तैयार किया है। इसका प्रयोग इस बार दाखिले प्रक्रिया के लिए होगा। यह सॉफ्टवेयर न सिर्फ ऑनलाइन प्रार्थना-पत्र स्वीकार करेगा बल्कि डिजिलॉकर की मदद से उनके प्रमाण-पत्रों का सत्यापन भी करेगा। इससे विद्यार्थियों को भौतिक रूप से उपस्थिति ना होने पर भी उनके लिए दाखिले करवाना संभव होगा।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

किसान के बेटे की प्रेरणादायी कामयाबी

किसान के बेटे की प्रेरणादायी कामयाबी

संसदीय लोकतंत्र की गरिमा का प्रश्न

संसदीय लोकतंत्र की गरिमा का प्रश्न

मुख्य समाचार

ठीक होने वालों की दर 68.32%

ठीक होने वालों की दर 68.32%

देश में कोरोना मामले 20.88 लाख के पार। एक दिन में 61537 नये ...

ब्लैक बॉक्स मिला, जांच शुरू

ब्लैक बॉक्स मिला, जांच शुरू

कोझिकोड विमान हादसा : मृतक संख्या हुई 18, एक यात्री को था को...

भाजपा के कुछ विधायक ‘तीर्थाटन’ पर गये गुजरात

भाजपा के कुछ विधायक ‘तीर्थाटन’ पर गये गुजरात

‘बाड़ेबंदी’ करने जैसी स्थिति से पार्टी का इनकार, कहा- कांग्र...