गठबंधन सरकार ने पूरा नहीं किया कोई भी वादा : हुड्डा

गठबंधन सरकार ने पूरा नहीं किया कोई भी वादा : हुड्डा

करनाल में रविवार को ‘विपक्ष आपके समक्ष’ कार्यक्रम का आगाज करते पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा। -हप्र

करनाल, 10 अक्तूबर (हप्र)

पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र हुड्डा ने कहा कि हरियाणा की गठबंधन सरकार ने कोई भी चुनावी वादा पूरा नहीं किया है। मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र करनाल से ‘विपक्ष आपके समक्ष’ कार्यक्रम का आगाज करते हुए उन्होंने कहा कि सीएम का ‘लठ’ उठा लेने वाला बयान उन्होंने सुना है। जिम्मेदार पद पर बैठे व्यक्ति को ऐसी भाषा का प्रयोग नहीं करना चाहिये। हुड्डा ने कहा कि मैं नहीं कहता कि लठ उठा लो, मैं कहता हूं कि वोट की चोट दो, लठ की चोट तो दो दिन में ठीक हो जाती है, लेकिन वोट की चोट 5 साल दर्द देगी। कार्यक्रम में पहुंचे लोगों को संबोधित करते हुए हुड्डा ने ऐलान किया कि अगला पड़ाव जींद होगा और नवंबर में इसी तरह के 2 कार्यक्रम होंगे।

उन्होंने कहा कि विपक्ष ने गठबंधन सरकार को अपने चुनावी वादे पूरे करने के लिए 2 साल का समय दिया। लेकिन, अब तक के पूरे कार्यकाल में सत्ताधारी दलों की तरफ से ना अपने मेनिफेस्टो और ना ही कॉमन मिनिमम प्रोग्राम को लागू किया गया। ऐसे में महज मौका परस्ती और स्वार्थ पूर्ति के लिए बनी सरकार को और वक्त नहीं दिया जा सकता। इसीलिए कांग्रेस विधायक दल ने फैसला लिया है कि अब वह हर जिले और हर विधानसभा क्षेत्र में जनता के बीच जाएगा और सीधा लोगों से संवाद स्थापित करेगा।

‘विपक्ष आपके समक्ष’ कार्यक्रम में 4 दर्जन से ज्यादा विधायक और पूर्व विधायक मौजूद रहे। कार्यक्रम में पहुंचे किसान, मजदूर, आढ़ती, कर्मचारी, कच्चे कर्मचारी, ट्रांसपोर्टर्स व अलग-अलग तबके के लोगों ने विपक्ष के सामने अपनी समस्याएं रखीं। इन्हें सुनने के बाद हुड्डा ने कहा कि आज प्रदेश का कोई भी तबका गठबंधन सरकार से खुश नहीं है। किसान सरकारी डंडों से सड़क पर पिट रहे हैं तो उसकी फसल मंडी में पिट रही है। उन्होंने मंडियों में जाकर देखा है कि अब तक धान की सुचारू खरीद शुरू नहीं हुई है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

बच्चों को देखिए, बच्चे बन जाइए

बच्चों को देखिए, बच्चे बन जाइए

अलोपी देवी, ललिता देवी, कल्याणी देवी

अलोपी देवी, ललिता देवी, कल्याणी देवी

निष्ठा और समर्पण का धार्मिक सामंजस्य

निष्ठा और समर्पण का धार्मिक सामंजस्य

सातवें साल ने थामी चाल

सातवें साल ने थामी चाल

... ताकि आप निखर-निखर जाएं

... ताकि आप निखर-निखर जाएं

शहर

View All