अम्बाला : सरकारी स्कूल के पास दिनदहाड़े युवक की चाकुओं से गोदकर हत्या

अम्बाला : सरकारी स्कूल के पास दिनदहाड़े युवक की चाकुओं से गोदकर हत्या

प्रतीकात्मक चित्र

अम्बाला शहर, 11 अक्तूबर (हप्र)आज दिनदहाड़े शहर के प्रेम नगर स्थित राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के से मामूली दूरी पर एक युवक की चाकुओं से गोद कर निर्मम हत्या कर दी गई। हत्यारों की संख्या के बारे अधिकृत रूप से पुष्टि नहीं हो पाई। हत्या के बाद आरोपी वहां से फरार हो गये। प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो हत्यारों की संख्या 2 बताई जा रही है जिन्होंने स्कूली ड्रेस डाली हुई थी। मृतक युवक की पहचान मानव कुमार उर्फ उज्ज्वल पुत्र अनिल कुमार के रूप में हुई है। वह मात्र 20 वर्ष का बताया जा रहा है जो प्रेम नगर के उसी स्कूल में पढ़ा था जिसके पास उसकी हत्या हो गई। मृतक प्रेम नगर में ही गुरुद्वारे के पास का रहने वाला था। वारदात की जानकारी मिलने के बाद बलदेव नगर एसएचओ व अन्य पुलिस कर्मी मौके पर पहुंचे और वारदात स्थल की जांच की। 

जानकारी के अनुसार उज्ज्वल प्रेम नगर के पास ही स्थित अंडरगारमेंट के एक शोरूम में कार्यरत था। क्षेत्र में व्याप्त चर्चाओं के अनुसार दोपहर को उज्ज्वल प्रेम नगर में ही किसी बेकरी पर सामान लेने गया था और वापस आ रहा था। उसी दौरान स्कूल में अवकाश हो गया जिसके कारण वहां काफी भीड़ सी हो गई। इसी दौरान एक युवक ने अचानक उज्ज्वल पर चाकू से हमला कर दिया और वहां से भाग निकला। चाकू से किए गए हमले में उज्ज्वल गंभी रूप से घायल हो गया जिसे स्थानीय लोगों ने उपचार के लिए सिविल अस्पताल पहुंचाया जिसे वहां से पीजीआई चंडीगढ़ के लिए रेफर कर दिया लेकिन शहर के पास ही एंबुलेंस में उज्ज्वल ने अंतिम सांस ले ली। इसके बाद उसके शव को सिविल अस्पताल की मोर्चरी में पोस्टमार्टम के लिए रखवाया गया है जहां डाक्टरों का एक बोर्ड उसका पोस्टमार्टम करेगा। उज्ज्वल अपने घर में इकलौता चिराग था। पिता अनिल भी इस समय गंभीर हालत किसी रोग से ग्रस्त होकर अस्पताल में दाखिल हैं। बेटे की हत्या के बाद परिजनों को रो रोकर बुरा हाल था। स्थानीय निवासियों व परिजनो ने मांग की है कि हत्यारे को जल्द गिरफ्तार किया जाए। पुलिस आसपास के लोगों से हमलावर आरोपी का सुराग लगा रही है। पुलिस मामले की गहनता से जांच कर रही है। वह आवश्यक कार्रवाई में लगी थी।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

बच्चों को देखिए, बच्चे बन जाइए

बच्चों को देखिए, बच्चे बन जाइए

अलोपी देवी, ललिता देवी, कल्याणी देवी

अलोपी देवी, ललिता देवी, कल्याणी देवी

निष्ठा और समर्पण का धार्मिक सामंजस्य

निष्ठा और समर्पण का धार्मिक सामंजस्य

सातवें साल ने थामी चाल

सातवें साल ने थामी चाल

... ताकि आप निखर-निखर जाएं

... ताकि आप निखर-निखर जाएं

शहर

View All