गुरुग्राम, वजीराबाद के तहसीलदार सस्पेंड

गुरुग्राम, वजीराबाद के तहसीलदार सस्पेंड

नवीन पांचाल/हप्र
गुरुग्राम, 29 अक्तूबर

सेक्शन 7 ए के तहत आने वाली जमीन की रजिस्ट्री बिना एनओसी के करने के आरोप में गुरुग्राम, वजीराबाद के तहसीलदाराें को सस्पेंड कर दिया गया है।

तीन महीने पहले ही 7 से ज्यादा राजस्व अधिकारियों को सस्पेंड कर उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाये गये थे। अब गुरुग्राम के तहसीलदार जिवेंद्र मलिक व वजीराबाद के तहसीलदार मनीष यादव को सस्पेंड कर दिया है। दोनों पर नियमों के खिलाफ जमीन की रजिस्ट्री करने के आरोप हैं। तहसीलों में सेक्शन 7ए के तहत की गई रजिस्ट्री के मामले की जांच के दौरान फर्जीवाड़े की बात सामने आई। इसकी रिपोर्ट डीसी से राजस्व विभाग के उच्चाधिकारियों तक पहुंची। जिसके बाद बुधवार देर रात दोनों तहसीलदारों को सस्पेंड कर दिये गये। बताया गया है कि सस्पेंशन अवधि में जिवेंद्र मलिक का मुख्यालय चरखी दादरी रहेगा। इसी तरह मनीष कुमार यादव को यमुनानगर मुख्यालय दिया गया है।

राजस्व विभाग के एक अधिकारी ने बताया, ‘वजीराबाद के तहसीलदार मनीष कुमार के खिलाफ ड्यूटी समय में दागी लोगों की बड़ी-बड़ी कारों में बैठकर घूमने, अवांछित लोगों की तहसीलदार के कमरे तक सीधी पहुंच होने समेत कई दूसरे आरोप भी हैं।’ डीआरओ ने राजस्व विभाग के वित्तायुक्त के आदेशों की पुष्टि करते हुए बताया कि दोनों ने स्टेशन छोड़ दिया है।

7 के खिलाफ दर्ज है एफआईआर

तीन महीने पहले ही सेक्शन 7 ए के तहत आने वाली जमीन की रजिस्ट्री अवैध तरीके से करने के मामले में डीटीपी की ओर से 7 राजस्व अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई गई थी। ये नायब तहसीलदार व तहसीलदार (रिटायर्ड भी शामिल हैं) अभी तक गिरफ्तारी से बचते घूम रहे हैं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

संदेह के खात्मे से विश्वास की शुरुआत

संदेह के खात्मे से विश्वास की शुरुआत

चलो दिलदार चलो...

चलो दिलदार चलो...