ओमिक्रान वेरिएंट प्रभावित देशों से आए 28 लोग होम क्वारंटीन

एहतियात के तौर पर स्वास्थ्य विभाग ने उठाया कदम

ओमिक्रान वेरिएंट प्रभावित देशों से आए 28 लोग होम क्वारंटीन

गुरुग्राम में बुधवार को ओमीक्राॅन वायरस को लेकर आयोजित बैठक में मौजूद निजी व सरकारी अस्पताल के प्रतिनिधि। -हप्र

सोनीपत, 1 दिसंबर (निस) 

स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना वायरस फैलने से रोकने के लिए एहतियात तौर पर 10 दिन में विदेश से आए 62 लोगों की कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग शुरू की है। इनमें से 28 लोगों को एक सप्ताह के लिए होम क्वारंटीन किया गया है। वह उन 6 देशों से सोनीपत पहुंचे थे जिनमें ओमिक्रान वेरिएंट के केस मिल चुके हैं। दक्षिण अफ्रीका व नीदरलैंड समेत कई देशों में कोरोना का ओमिक्रान वेरिएंट के मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे में विदेश से आने वाले लोगों की पहचान करने के लिए स्वास्थ्य विभाग सर्तक हो गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी सूची के आधार पर अधिकारियों ने 10 दिन में विदेश से घर लौटे 62 लोगों से फोन पर संपर्क करने के बाद अपनी टीमों को 6 देशों से आए 28 लोगों के घर भेजा गया, जिन देशों में ओमिक्रान वेरिएंट फैल रहा है। कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग के दौरान दक्षिण अफ्रीका, चीन, बांग्लादेश, यूके, न्यूजीलैंड व सिंगापुर से सोनीपत पहुंचे लोगों की पहचान की गई। इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने लोगों की कोरोना जांच के लिए सैंपल लिए और एक सप्ताह के लिए उन लोगों को होम क्वारंटीन का दिया गया हैै। साथ ही एक सप्ताह तक परिवार के सदस्यों से दूरी बनाए रखने और घरों से बाहर नहीं निकलने की हिदायत दी गई है। उन लोगों के सैंपलों को कोरोना की जांच के लिए खानपुर कलां स्थित लैब में भेजा गया है।  

स्वास्थ्य विभाग ने कसी कमर

गुरुग्राम(हप्र) कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्राॅन को फैलने से रोकने की तैयारियों के बीच सिविल सर्जन ने निजी व सरकारी अस्पतालों के अधिकारियों की बैठक ली। उन्होंने आवश्यक तैयारियां करने के निर्देश दिए। उन्होंने लापरवाही या अनदेखी करने वालों के खिलाफ सख्ती कार्रवाई की चेतावनी भी दी।सरकारी व निजी अस्पतालों के प्रमुख लोगों के साथ में सिविल सर्जन डाॅक्टर विरेंद्र यादव ने कहा कि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सरकार द्वारा गंभीरता से प्रयास किए जा रहे हैं। वहीं कोरोना संक्रमण की चपेट में आकर 11 और लोग बीमार हो गए। राहत की बात यह है कि 8 उपचाराधीनों की रिपोर्ट आने के बाद इन्हें संक्रमण मुक्त घोषित किया गया है। अब जिलेभर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 67 रह गई है। 

 हिसार में 4 नये मामले

हिसार (हप्र) : डिप्टी सिविल सर्जन डॉ. सुभाष खतरेजा ने बताया कि जिले में बुधवार को डेंगू संक्रमण के 4 नए मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही जिले में डेंगू संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 52 हो गया है। उन्होंने बताया कि अभी तक 5483 डेंगू आशंकित लोगों के सैंपल लिए गए हैं, इनमें से 991 लोगों में डेंगू का संक्रमण मिला है। 938 व्यक्ति डेंगू से रिकवर हो चुके है। बुधवार को हिसार में एक व्यक्ति कोविड-19 पॉजिटिव मिला लेकिन एक भी मरीज डिस्चार्ज नहीं हुआ। वहीं उपायुक्त डॉ प्रियंका सोनी ने कोविड की तीसरी संभावित लहर के दृष्टिïगत जिले के नागरिकों से जल्द से जल्द अपना वैक्सीनेशन करवाने की अपील की है।

फरीदाबाद में कोरोना के 4 नये मरीज

फरीदाबाद(हप्र) : बुधवार को औद्योगिक नगरी में कोरोना वायरस के चार मामले पॉजिटिव आए हैं। वहीं बुधवार को जिला में रिकवरी रेट भी 99.25 प्रतिशत पर पहुंच गया है। कोरोना पॉजिटिव का कोई केस अस्पताल में भर्ती नहीं है। जबकि होम आइसोलेशन पर जिला में 32 लोगों को रखा गया है तथा एक्टिव केसों की संख्या भी 32 हो गई है। जबकि कई लोग कोरोना को मात देकर स्वस्थ हो चुके हैं। जिला में कोरोना संक्रमण की रफ्तार पर ब्रेक लगाने के लिए टेस्टिंग और वैक्शीनेशन पर जोर दिया जा रहा है।

जींद में डेूंग पॉजिटिव के 5 नये केस

जींद (हप्र) जींद जिला में डेंगू पॉजिटिव के मामले लगातार सामाने आ रहे हैं। बुधवार को भी जिले में 5 मरीजों को डेंगू पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई है। नोडल अधिकारी डा. तीर्थ बागड़ी ने यह जानकारी देते हुए बताया कि आज 5 केस डेंगू पॉजिटिव होने की सूचना हिसार से प्राप्त हुई है। जिनमें तीन केस जींद शहर से तथा एक- एक केस भंभेवा व मलार गांव से संबंधित है। उन्होंने बताया कि फिलहाल जींद के नागरिक अस्पताल में डेंगू के 4 मरीज उपचाराधीन हैं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अन्न जैसा मन

अन्न जैसा मन

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

एकदा

एकदा

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

मुख्य समाचार

कोल्हापुर : 14 बच्चों के अपहरण और 5 बच्चों की हत्या की दोषी बहनों की फांसी की सज़ा उम्रकैद में बदली

कोल्हापुर : 14 बच्चों के अपहरण और 5 बच्चों की हत्या की दोषी बहनों की फांसी की सज़ा उम्रकैद में बदली

मौत की सजा पर अमल में अत्यधिक विलंब के कारण हाईकोर्ट ने लिया...