उपभोक्ता अधिकार

फेस मास्क फिटिंग और परतों का रखें ध्यान

फेस मास्क  फिटिंग और परतों का रखें ध्यान

कोविड-19 महामारी के दौरान हम सबको बताया गया कि बीमारी के फैलाव को रोकने के लिए हमें मास्क पहनना चाहिए और हमें महंगे मास्कों पर ज्यादा पैसा नहीं खर्च करना चाहिए, इसके बजाय हम किसी भी साधारण सूती कपड़े से मास्क बना सकते हैं या फिर अपने नाक और मुंह को ढकने के लिए किसी भी स्कार्फ या रुमाल का इस्तेमाल कर सकते हैं। हालांकि मुझे आश्चर्य हो रहा है कि मेरे कई दोस्त मास्क पहनने के बावजूद इस बीमारी की चपेट में आ गये। क्या जिन लोगों ने मास्क पहना है, वे पूरी तरह सुरक्षित हैं? क्या आप इस पर कुछ प्रकाश डाल सकते हैं?

असल में एन-95 मास्क सबसे अच्छी सुरक्षा प्रदान करते हैं-संख्या 95 मास्क की फिल्टर करने की क्षमता के प्रतिशत को दर्शाता है। इसके अलावा इनका डिजाइन इस तरह से तैयार किया जाता है कि नाक और मुंह के पास फिट हो जाये और चेहरे और मास्क के बीच कोई जगह खाली (गैप) न रहे, इस तरह से यह अधिकतम सुरक्षा प्रदान करता है। हालांकि इसकी कमी के कारण इन्हें उन लोगों के लिए बचा के रखा जाता है जो स्वास्थ्य क्षेत्र में काम कर रहे हैं या उनके लिए जो कोविड-19 से जूझ रहे लोगों की देखभाल कर रहे हैं। अध्ययन बताते हैं कि घर में बने एक ही परत वाले कपड़े के मास्क किसी भी तरह से फिल्टरेशन में एन-95 के मुकाबले नहीं ठहरते और अगर इन मास्कों की फिटिंग ढीली है तो बचाव तो और कम हो जाता है। हालांकि इस मामले पर किसी को निराश होने की जरूरत नहीं है। अच्छी सामग्री और फिट डिजाइन के हिसाब से बने फैब्रिक मास्क भी उतने ही अच्छे हो सकते हैं।

फ़िल्टरिंग वायरस में कपड़े के मास्क की दक्षता का मूल्यांकन करने वाले कई हालिया अध्ययनों ने हमें विभिन्न कपड़ों के फ़िल्टरिंग गुणों में उत्कृष्ट जानकारी दी है और उन्हें इस तरह से डिज़ाइन किया गया है ताकि घातक वायरस से अधिकतम सुरक्षा सुनिश्चित हो सके। इस संदर्भ में इस साल अप्रैल में अमेरिकन केमिकल सोसायटी जरनल (एएससी नैनो) में छपे एक अध्ययन का उल्लेख करना चाहूंगी। ‘एरोसोल फिल्टरेशन एफिसिएंसी ऑफ कॉमन फैब्रिक यूज्ड इन रेसपिटेटरी क्लॉथ मास्क’ नामक शीर्षक से छपे अध्ययन में 15 तरह के अलग-अलग फैब्रिक होते हैं जिनमें कॉटन, कॉटन किल्ट, प्राकृतिक सिल्क, फ्लानेल (65 फीसदी कॉटन और 35 फीसदी पॉलीस्टर), सिंथेटिक सिल्क या पॉलीस्टर, शिफॉन (90 प्रतिशत पॉलीस्टर और 10 प्रतिशत स्पेनडेक्स) और कुछ पॉलीस्टर कॉटन ब्लेंड भी शामिल हैं। अध्ययन के निष्कर्ष हमारी सुरक्षा के लिए सर्वोत्तम मास्क बनाने में हमारा मार्गदर्शन करते हैं। अध्ययन बताता है कि किसी कपड़े की फिल्टरेशन दक्षता उसके धागों की संख्या (थ्रेड काउंट) के आधार पर भिन्न होती है। उदाहरण के लिए, मास्क के लिए कॉटन एक सामग्री के रूप में बेहतर प्रदर्शन करता है, उच्च बुनाई घनत्व या थ्रेड काउंट पर; 600 टीपीआई (प्रति इंच धागे) कपास को 80 टीपीआई कॉटन की तुलना में कहीं अधिक प्रभावी पाया गया। यह अनुशंसा करता है कि झरझरा कपड़े से बचा जाना चाहिए और तंग बुनाई और कम छिद्र वाले, जैसे कि उच्च धागे की गिनती के साथ सूती चादर के मास्क का उपयोग करना चाहिए। अध्ययन में जोर दिया गया है कि कपड़े की अधिक परतें एक परत की तुलना में बेहतर सुरक्षा प्रदान करती हैं। उदाहरण के लिए प्राकृतिक सिल्क की दो परतें 65 प्रतिशत फिल्टरेशन क्षमता वाली होती हैं, जबकि चार परतें 86 प्रतिशत फिल्टरेशन देती हैं। 600 टीपीआई कॉटन की एक परत की क्षमता 79 प्रतिशत थी, जबकि दो परतों की 82 प्रतिशत थी। इसी तरह, शिफॉन की एक परत ने 67 प्रतिशत फिल्टरेशन दक्षता दी, जबकि दो परतों ने 83 प्रतिशत। इसमें पाया गया कि विभिन्न प्रकार के कपड़ों के संयोजन और उनके यांत्रिक और इलेक्ट्रोस्टैटिक फ़िल्टरिंग गुणों का लाभ उठाकर मास्क को और भी अधिक प्रभावी बनाया जा सकता है। उदाहरण के लिए, उच्च थ्रेड काउंट कॉटन की एक परत से बना मास्क, प्राकृतिक रेशम या शिफॉन की दो परतों से बना मास्क और भी बेहतर था। कॉटन और शिफॉन में फिल्टरेशन क्षमता 97 प्रतिशत थी, जबिक कपास और रेशम में 94 प्रतिशत। अध्ययन में पाया गया कि एक कमजोर-फिटिंग या ढीले मास्क जो चेहरे पर कसकर पकड़ नहीं बना पाए और इसके कारण बने गैप ने फिल्टरेशन दक्षता को 50-60 प्रतिशत तक कम कर दिया। उधर, जहां एक उचित फिटिंग कॉटन और रेशम मिश्रित मास्क ने 94 प्रतिशत की एक फिल्टरेशन दक्षता प्रदान की वहीं एक कमजोर-फिटिंग मास्क ने केवल 37 प्रतिशत की फिल्टरेशन दक्षता दी।

क्या इस तरह के मास्क बाजार में उपलब्ध हैं?

मुझे यकीन है कि ऐसे मास्क उपलब्ध हैं। आजकल कई कंपनियां मास्क बना रही हैं। आप भी इन्हें घर पर बना सकते हैं या इसे किसी से सिलवा सकते हैं। बस यह सुनिश्चित करें कि वे अच्छी तरह से

फिट हों।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

जो पीड़ पराई जाणे रे

जो पीड़ पराई जाणे रे

व्रत-पर्व

व्रत-पर्व

डिजिटल पेमेंट में सट्टेबाजी पर लगे लगाम

डिजिटल पेमेंट में सट्टेबाजी पर लगे लगाम

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

मुख्य समाचार

शहर

View All