मच्छरों से बचाएंगे पौधे

मच्छरों से बचाएंगे पौधे

रजनी अरोड़ा

गर्मियां आते ही मच्छरों का प्रकोप बढ़ जाता है जो मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया जैसे घातक बुखार का कारण बनते हैं। घर में कुछ पौधे लगाकर मच्छरों को दूर किया जा सकता है जो केमिकल-फ्री होते हैं और हमारी सेहत को किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाते। माॅस्कीटो-रैपेलेंट प्लांट लगाना बेहतर है।

तुलसी : आमतौर पर हर घर में तुलसी होती है। यह औषधीय पौधा है। इसकी खुशबू से मच्छर नज़दीक नहीं आते। इसके पौधों को ऐसी जगह लगा देना चाहिये जहां पानी भरा हुआ हो। लार्वा इसकी खुशबू से मर जाते हैं। घर में इसे खिड़की या दरवाजे के पास भी लगाया जा सकता है ताकि इसकी खुशबू से मच्छर अंदर न आएं। घर में 4-5 पौधे लगाना बेहतर है।

गार्डन जरेनियम : इसमें लाल, सफेद, पिंक रंग के फूल आते हैं। इसमें बहुत अच्छी खुशबू आती है जो मच्छरों को दूर रखती है।

कैटनीप : यह बारहमासी औषधीय पौधा है जो पुदीने जैसा दिखता है। इसके फूल सफेद और पर्पल रंग के होते हैं। इसकी पत्तियों को मसलकर निकाले गये रस को स्किन पर लगा सकते हैं।

लैमन बाम : यह तेजी से बढ़ने वाला पौधा है। इसमें सिटरोनेला तत्व की मात्रा बहुत अधिक होती है। इसकी खुशबू मच्छरों को दूर रखती है।

गेंदा या जाफरी : इसके फूलों में मौजूद पायरेथ्रम नामक कंपाउंड होता है जो इंसेक्ट्स के लिए टाॅक्सिन का काम करता है। इसके फूल और पत्तियां कीट-नाशक का काम करती हैं। इसका पौधा दरवाजे या खिड़की के आसपास रखें।

पुदीना : कटिंग या बीज से आसानी से उगाया जा सकता है। गमले में लगाकर कमरे की खिड़की-दरवाजे के पास रख सकते हैं। पुदीने की खुशबू से मच्छर दूर रहते हैं। इसके ऑयल को पानी में मिलाकर के स्प्रे से भी मच्छर भाग जाते हैं और लार्वा तक मर जाते हैं। इसकी पत्तियों को हल्का मसल कर रस निकालें और इसको अपने शरीर या कपड़ों पर लगाएं, मच्छर दूर रहेंगे।

नीम : यह बहुत इफेक्टिव माॅस्कीटो रैपेलेंट हैं। इसमें मच्छरों को दूर रखने के तत्व मिलते हैं। आप अपने बागीचे में नीम का पेड़ लगा सकते हैं। इसकी पत्तियों को कपूर में मिलाकर जलाने और मसलकर निकले रस को स्किन पर लगाने से मच्छर दूर रहते हैं।

लैवेंडर : सजावटी पौधा होने के साथ लैवेंडर की खुशबू मच्छरों को दूर भगाने में सहायक है। यह आसानी से उगने और कम देखभाल वाला पौधा है। लगभग 4 फुट ऊंचा पौधा होता है। केमिकल-फ्री माॅस्कीटो सोल्युशन बनाने के लिए लैवेंडर ऑयल को पानी में मिलाकर सीधे स्किन पर लगा सकते हैं। इसको अपने बगीचे में ऐसी जगह लगाएं जहां मच्छर ज्यादा हों। इसे इंडोर भी रखा जा सकता है।

रोज़मैरी : यह एक औषधीय पौधा होने के साथ प्राकृतिक माॅस्कीटो-रैपेलेंट पौधा है। इसके पौधे 4-5 फुट लंबे हो जाते हैं। इसमें नीले रंग के फूल लगते हैं। यह गर्मियों में खिलने वाला पौधा है इसकी खुशबू से मक्खी-मच्छर दूर रहते हैं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

राजनेताओं की जवाबदेही का सवाल

राजनेताओं की जवाबदेही का सवाल

तेल से अर्जित रकम का कीजिए सदुपयोग

तेल से अर्जित रकम का कीजिए सदुपयोग

ताऊ और तीसरी धारा की राजनीति

ताऊ और तीसरी धारा की राजनीति

अभिमान से मुक्त होना ही सच्चा ज्ञान

अभिमान से मुक्त होना ही सच्चा ज्ञान

फलक पर स्थापित ‘थलाइवा’ को फाल्के

फलक पर स्थापित ‘थलाइवा’ को फाल्के

नंदीग्राम रणभूमि के नये सारथी शुभेंदु

नंदीग्राम रणभूमि के नये सारथी शुभेंदु

राजनीति से अहद-ए-वफा चाहते हो!

राजनीति से अहद-ए-वफा चाहते हो!