बागवानी

मनीप्लांट : प्यारी सी देखभाल, हरियाली सदाबहार

मनीप्लांट : प्यारी सी देखभाल, हरियाली सदाबहार

पूनम पांडे

अपने घर के खुले कक्ष, बरामदे, बालकनी, बगीचे को सुंदर बनाने के लिए लोग अंदर और बाहर कई तरह के पेड़-पौधे लगाते हैं। पिछले तीन दशक से घर के बाहर या भीतर साफ हवा के लिए कुछ पेड़ों को लगाना बहुत फायदेमंद बताया गया है। सिर्फ साफ हवा ही नहीं बेल और पौधे मन की बैचेनी को दूर कर दिलो-दिमाग में सुकून और वैचारिक समृद्धि तक लाते हैं। इस लिहाज़ से मनी प्लांट एक पसंदीदा बेलदार पौधा है क्योंकि ये घर के किसी भी हिस्से में आराम से लग जाता है। आप में से भी ज्यादातर लोग ऐसे होंगे जिनके घर में मनी प्लांट किसी न किसी रूप में अवश्य हरियाली बिखेर रहा होगा। कई लोग मनी प्लांट को बोतल में लगाकर घर में रख देते हैं। कुछ लोग तो पुराने बल्बों में भी मनी प्लांट को लगाकर सजा देते हैं। कई घरों में यह गमलों की शोभा बना दिखता है तो कहीं-कहीं जमीन पर ही शान से फैल रहा होता है। यह पौधा हरियाली में जितना अच्छा लगता है, उतना ही अच्छा यह फायदेमंद भी है।

हमारे घरों में कारपेट, गलीचे, डोर मैट, फर्नीचर आदि में बहुत से ऐसे कण होते हैं जो घर के अंदर भी हवा को प्रदूषित करते हैं। मनी प्लांट के एक-दो पौधे भी हों तो यह हवा को प्योरिफाई करने का काम करते हैं। यानी शुद्ध हवा आपको दिलाते हैं।

मनी प्लांट यूं तो एक ही नाम से जाना जाता है, लेकिन असल में इसकी वैरायटी बहुत सारी होती हैं। कोई गहरे हरे रंग का तो कोई बहुत ही हल्के रंग का होता है। किसी में छोटे पत्ते होते हैं तो किसी में काफी बड़े पत्ते होते हैं। लेकिन सबसे अच्छी बात है कि आप मनी प्लांट को मिट्टी और पानी, दोनों में ही उगा सकते हैं। यह पौधा जितना फायदेमंद है उतना ही अच्छा है लगने में। यानी कि आप कहीं भी इसे लगा सकते हैं और इसकी देखभाल के लिए बहुत ज्यादा मशक्कत की जरूरत नहीं होती।

बागवानी विशेषज्ञों के अनुसार, मनी प्लांट का पौधा जहां रखो वहां कुछ बातों पर गौर करना ही चाहिए। दरअसल मनीप्‍लांट बेल है ना कि पौधा। इसे बढ़ने के लिए सहारे की ज़रूरत होती है। इसलिए इसे थोड़ा बढ़ने के बाद किसी डोरी की सहायता से ज़रूर बांध दें। इसके तने को किसी लकड़ी या प्लास्टिक के खंबे के साथ बांध दें तो यह जल्‍दी बढ़ेगा।

पानी में लगाएं मनीप्लांट

मनीप्‍लांट को किसी बोतल में लगाना ज्यादा बेहतर होता है। जब उसकी जड़ें निकल आएंगी तब उसे किसी गमले में लगा दिया जाए। इससे वे जल्‍दी उगेंगे।

पानी की सही मात्रा का ध्यान रखें

ऐसा नहीं है कि मनीप्‍लांट को हरा बनाए रखने के लिए आप इसमें हर वक्त पानी डालते रहें। इसमें ज्‍यादा पानी नहीं डालना चाहिये। इन्‍हें उगने के लिये ज्‍यादा पानी की आवश्‍यकता नहीं होती। हमेशा मौसम के हिसाब से पानी डालें।

हल्की धूप में रखें

मनीप्‍लांट को धूप बहुत पसंद है लेकिन ज्यादा तेज धूप इसे नुकसान पहुंचा सकती है। आप उसे खुली खिड़की पर रखेगें तो पाएंगे कि वह सूरज की ही ओर ग्रो कर रहा होगा। इसलिये मनीप्‍लांट को रोज़ तो नहीं पर फिर भी एक-एक दिन छोड़ कर धूप दिखाएं।

खाद भी डालें

जब आप मनीप्लांट को पानी से निकाल कर मिट्टी के गमले में लगा दें तो इसमें आपको खाद भी डालनी चाहिए। इसमें किसी भी प्रकार की खाद प्रयोग कर सकते हैं। प्‍लांट की सूखी प‍त्तियां और बेलों को काट कर उनकी ग्रोथ को बढ़ा सकते हैं।

सावधानियां

मनी प्लांट को अधिक धूप में न रखें। इसे घर के अदंर या छायादार आंगन में भी रखा जा सकता है। अगर बगीचा नहीं है तो इसे हमेशा पानी में रखना और इसे बढ़ते देखना बेहतर होता है, लेकिन इस पानी को हर सप्ताह बदल देना चाहिए।

ज़मीन पर लगा है तो इसकी बेलों को नहीं फैलाना चाहिए। उन बेलों को ऊपर जाने दीजिये, आप महसूस करेंगे कि सुंदरता बढ़ जाएगी। अच्छा होगा कि मनीप्लांट घर की किसी ऐसी दिशा में हो जहां हवा और हल्की रोशनी आ रही हो हफ्ते या दो हफ्ते में एक बार प्लांट की मिट्टी को चेक करते रहें। मिट्टी में अगर पानी की मात्रा ज़्यादा लग रही हो, तो उसमें पानी की मात्रा कम डालें या इसके थोड़ा सूखने का इंतज़ार करें। ध्यान दें कि मिट्टी पूरी तरह सूखे नहीं। हमेशा हल्की नमी वाली खाद इस पौधे के लिए बेहतर होती है। इसका सबसे अच्छा तरीका है कि पॉट के नीचे एक होल कर दें, ताकि अतिरिक्त पानी निकल जाए। यह पौधा हमेशा हल्की नमी में ज्यादा अच्छे से खिलता है। यह कटिंग से भी बहुत अच्छा लग जाता है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

शह-मात का खेल‌‍

शह-मात का खेल‌‍

इंतजार की लहरों पर सवारी

इंतजार की लहरों पर सवारी

पद के जरिये समाज सेवा का सुअवसर

पद के जरिये समाज सेवा का सुअवसर

झाझड़िया के जज्बे से सोने-चांदी की झंकार

झाझड़िया के जज्बे से सोने-चांदी की झंकार

बीत गये अब दिखावे के सम्मोहक दिन

बीत गये अब दिखावे के सम्मोहक दिन