कर्मठ कन्याएं : दैनिक ट्रिब्यून की अभिनव पहल

कर्मठ कन्याएं : दैनिक ट्रिब्यून की अभिनव पहल

नेहा गोयल : संघर्ष के मैदान में दागे जीत के गोल

सोनीपत : टोक्यो ओलंपिक में बतौर मिड फिल्डर भारतीय महिला हॉकी टीम का प्रतिनिधित्व करने वाली नेहा गोयल की सफलता के पीछे अभावग्रस्त जिदंगी और संघर्ष की कहानी है। 2018 एशियाई खेलों के फाइनल में भारत की ओर से गोल करके सुर्खियों में आने के बाद नेहा ने पीछे मुड़कर नहीं देखा। पिता की मौत के बाद मां परिवार का पालन पोषण करने के लिए फैक्टरी में मजदूरी करती थी। बाद में नेहा भी मां के साथ फैक्टरी में मजदूरी करने लगी। साइकिल के रिम के 100 तार का बंडल बांधने के एवज में उसे मात्र 4 रुपये मिलते थे। मां सावित्री ने फैक्टरी में मजदूरी के अलावा दूसरों के घरों में काम करके नेहा को आगे बढ़ाया। दिलचस्प बात यह है कि नेहा हॉकी में रुचि के चलते नहीं आई, बल्कि जब वह 5वीं क्लास में थी तब उसकी सहेली ने बताया कि अगर वह हॉकी खेलती है तो उसे जूते और किट मिलेगी। इसी के चलते नेहा हॉकी मैदान तक पहुंच गई। प्रैक्टिस करने के लिये नेहा को हर रोज फटे जूतों में कई किलोमीटर तक दौड़ना पड़ता था। भारतीय महिला हॉकी टीम की पूर्व कप्तान प्रीतम सिवाच की देखरेख में उनकी अकादमी में हॉकी में उसे अपने सपनों को पंख मिले और आज देश की श्रेष्ठ खिलाड़ियों में शुमार है।

-हरेंद्र रापड़िया, सोनीपत

उदिता दूहन: दिवंगत पिता के सपने को बेटी ने लगाए पंख

हिसार : एशिया कप में चीन को हराकर स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय महिला हॉकी टीम की मिड फिल्ड प्लेयर उदिता दूहन ने अपने स्वर्गीय पिता के सपने को पूरा करने के लिए इतना दम लगा दिया कि वह सपने से भी आगे निकल गई।

उदिता मूल रूप से भिवानी के नांगल गांव की रहने वाली हैं लेकिन इस समय हिसार में रह रही हैं। इनके पिता सतबीर सिंह पुलिस में एएसआई थे, जिनकी ब्लड इन्फेक्शन के कारण मृत्यु हो गई थ्ाी, सतबीर सिंह खुद खिलाड़ी थे और बेटी को इंडियन टीम में देखना चाहते थे। टीम की परफार्मेंस के बढ़ने का श्रेय उदिता ने स्टैंडिंग और प्रैक्िटस के अलावा टीम में कम्युनिकेशन और फोकस के बढ़ने को दिया है। उदिता ने कहा कि हिसार साई के कोच आजाद सिंह मलिक के अलावा इंडियन कोच हरिंदर सिंह की तकनीक ने टीम को मजबूत बनाया है। अपनी मजबूती के लिए वे कोच के अलावा अपने पिता की यादों और मां के समर्पण को श्रेय देती है।

-कुमार मुकेश, हिसार

पूजा ढांडा: ड्राइवर की बेटी ने कुश्ती में लहराया परचम

हिसार : दंगल फेम स्टार पहलवान गीता फौगाट के अलावा हरियाणा की ही सरिता को चित करके कॉमनवेल्थ का टिकट हासिल करने वाली हिसार की बेटी पूजा ढांडा ने अपने परिवार और प्रदेश का नाम रोशन किया है। पूजा बताती हैं, उनका यहां तक का सफर काफी घुमावदार रहा है। उनके पिता अजमेर ढांडा का उन्हें कदम-कदम पर समर्थन हासिल हुआ। उनके पिता पशुपालन विभाग में ड्राइवर हैं, वहीं पूजा इस समय कुश्ती के कोच के पद पर कार्यरत हैं।

पूजा ने वर्ष 2006 से 2008 तक जूडो में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर दो स्वर्ण व एक कांस्य पदक जबकि राष्ट्रीय स्तर पर चार स्वर्ण पदक जीते। बाद में वे पहलवानी में उतरीं। जब उन्होंने पहलवानी शुरू की तो पिता को काफी लोगों ने टोका भी। वे कुश्ती में वर्ष 2009 से अब तक दो दर्जन से ज्यादा इंटरनेशनल प्रतियोगताओं में भाग ले चुकी हैं। सिंगापुर में वर्ष 2010 में पहली बार हुए यूथ ओलंपिक गेम्स में हिस्सा लेने वाली पहली महिला खिलाड़ी और देश को पहला मैडल दिलाने का गौरव भी पूजा के नाम ही है।

-कुमार मुकेश, हिसार

श्वेता सुहाग : कश्मीरी पंडितों से की ‘वचनपूर्ति’

बहादुरगढ़ के पीड़ित कश्मीरी पंडितों को उनके प्लॉट दिलवाने के पीछे एचसीएस अधिकारी श्वेता सुहाग की अहम भूमिका रही। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और एचएसवीपी के मुख्य प्रशासक अजीत बालाजी जोशी के निर्देश के बाद श्वेता ने ही 'मिशन वचन पूर्ति' को सिरे चढ़ाया। वे रोहतक में चकबंदी की निदेशक के साथ-साथ हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण झज्जर की कार्यकारी अधिकारी हैं। अहम बात यह है कि श्वेता 2016 बैच की टॉपर हैं। श्वेता के कार्यों के लिए सीएम मनोहर लाल खट्टर तथा एचएसवीपी के मुख्य प्रशासक अजीत बालाजी जोशी ने उन्हें सम्मानित भी किया।

-दिनेश्ा भारद्वाज, चंडीगढ़

श्वेता सुहाग को सम्मानित करते अधिकारी। 

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

यमुनानगर तीन दर्जन श्मशान घाट, गैस संचालित मात्र एक

यमुनानगर तीन दर्जन श्मशान घाट, गैस संचालित मात्र एक

ग्रामीणों ने चंदे से बना दिया जुआं में आदर्श स्टेडियम

ग्रामीणों ने चंदे से बना दिया जुआं में आदर्श स्टेडियम

'अ' से आत्मनिर्भर 'ई' से ईंधन 'उ' से उपले

'अ' से आत्मनिर्भर 'ई' से ईंधन 'उ' से उपले

दैनिक ट्रिब्यून की अभिनव पहल

दैनिक ट्रिब्यून की अभिनव पहल

मुख्य समाचार

भारतीय पुरूष कम्पाउंड तीरंदाजी टीम ने विश्व कप में जीता लगातार स्वर्ण पदक

भारतीय पुरूष कम्पाउंड तीरंदाजी टीम ने विश्व कप में जीता लगातार स्वर्ण पदक

पिछड़ने के बाद वापसी करते हुए फ्रांस को दो अंक से दी पटकनी

मोबाइल पर जल्द खत्म होने वाली है अनजान कॉल्स

मोबाइल पर जल्द खत्म होने वाली है अनजान कॉल्स

सरकार स्थापित कर रही है अपना 'ट्रूकॉलर'!

माता वैष्णो देवी मंदिर के मुख्य पुजारी का निधन

माता वैष्णो देवी मंदिर के मुख्य पुजारी का निधन

उपराज्यपाल ने जताया शोक

शहर

View All