सोने-चांदी का हरियाणा : The Dainik Tribune

सोने-चांदी का हरियाणा

खेल नीति से रंग लाई खिलाड़ियों की मेहनत

सोने-चांदी का हरियाणा

इंग्लैंड के बर्मिंघम में चल रहे राष्ट्रमंडल खेलों में हरियाणा के खिलाड़ियों ने पदकों की जैसी बरसात की है उससे सारा देश आह्लादित है। अक्सर कहा जाता है कि इस धरती में ऐसा क्या है जो इसके खिलाड़ी ओलंपिक, एशियाई खेलों, विश्व-स्पर्धाओं व राष्ट्रमंडल खेलों के जरिये देश की झोली पदक से भरते हैं। कृषि संस्कृति के प्रदेश में अच्छी आबोहवा, खानपान व जूझने के जज्बे ने पदकों की चमक बढ़ाई है। सोने-चांदी के पदकों हेतु लालायित खिलाड़ियों के तेवर में आक्रामकता साफ नजर आई। उन्होंने जहां मैट पर खूब दांव खेले तो रिंग में जमकर वजनदार मुक्के बरसा कर प्रतिपक्षियों को चित किया। रविवार की शाम तक हरियाणा के खिलाड़ी नौ स्वर्ण पदकों समेत 16 पदक देश के नाम कर चुके थे। कुश्ती में तो खिलाड़ियों ने गोल्ड-कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों का रिकॉर्ड तोड़कर छह गोल्ड पदक जीते। दो फीसदी आबादी वाले हरियाणा के खिलाड़ी चालीस फीसदी के करीब पदक ले आयें तो आश्चर्य मिश्रित खुशी होती है। टोक्यो ओलंपिक खेलों के दौरान देश तब भी झूमा था जब एकमात्र स्वर्ण हरियाणा के नीरज चोपड़ा ने भाला फेंक में जीता था। कमोबेश यही स्थिति पैरा ओलंपिक में भी रही है। तमाम विश्व चैंपियनशिपों में भी हरियाणा के खिलाड़ी सोने-चांदी के पदक जीतते रहते हैं। दरअसल, जीत के जुनून का जज्बा हरियाणा के खिलाड़ियों की रगों में दौड़ने लगा है। राजाश्रय में ऐसी खेल संस्कृति जन्मी जो एक स्वस्थ स्पर्धा को जन्म देती है।

अप्रत्याशित कामयाबी को देखकर एक बार प्रधानमंत्री ने एक खिलाड़ी से पूछा कि हरियाणा की धरती में ऐसा क्या है जो इतने विजेता खिलाड़ी सामने आते हैं। खिलाड़ी ने सहज भाव में कह दिया— ‘देसां मा देस हरियाणा, जहां दूध-दही का खाणा।’ बहरहाल, जीवट के जज्बे व शाकाहारी प्रांत में आज जो खिलाड़ियों की नर्सरी फल-फूल रही है उसमें राज्य सरकारों की नीतियों का भी हाथ रहा है। विगत में भूपेंद्र सिंह हुड्डा सरकार के दौरान भी खेल व खिलाड़ियों को प्रोत्साहन के लिये जो रचनात्मक नीति क्रियान्वित की गई, उसके भी सार्थक परिणाम सामने आये। सरकारों ने खिलाड़ियों को नकद इनाम व नौकरी में आरक्षण तथा प्लाट आदि अन्य सुविधाएं दीं, उसने खिलाड़ियों में जोश भरा। मनोहर लाल खट्टर सरकार ने इस पहल को और समृद्ध किया। राज्य में खेल सुविधाओं का सुनियोजित तरीके से विकास किया गया। खेलों की नवीनतम तकनीकें व प्रशिक्षण की आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध कराई गई। सुखद यह कि विश्व स्पर्धाओं में भाग लेने वाले खिलाड़ियों को प्रोत्साहन के लिये प्रतियोगिता से पहले नकद राशि उपलब्ध करायी गई। जीतने पर तो भारी-भरकम राशि का पुरस्कार अलग आकर्षण रहता है। नीरज चोपड़ा को ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतने पर मिली छह करोड़ की राशि देश में सबसे बड़ी खेल प्रोत्साहन राशि होगी। पैरा ओलंपिक खिलाड़ियों को भी आकर्षक राशि दी गई। यहां तक कि चौथे नंबर पर आने वाले खिलाड़ियों को भी नकद राशि दी गई। जिसे देखकर देश के अन्य राज्यों के खिलाड़ी अक्सर सोचते हैं- काश, हम भी हरियाणा के लिये खेलते!

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

मुख्य समाचार

गहलोत पीछे हटे, सोनिया से मांगी माफी

गहलोत पीछे हटे, सोनिया से मांगी माफी

कांग्रेस अध्यक्ष पद : दिग्विजय-थरूर में होगा मुकाबला!

सभी महिलाएं कानूनी गर्भपात की हकदार

सभी महिलाएं कानूनी गर्भपात की हकदार

एमटीपी अधिनियम : सुप्रीम कोर्ट ने किया स्पष्ट

मंत्री के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर हंगामा

मंत्री के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर हंगामा

पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र : कांग्रेस सदस्य वेल तक आए

हरियाणा के गलियारों में ये 195 नाम चर्चा में

हरियाणा के गलियारों में ये 195 नाम चर्चा में

कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव के मतदाता डेलीगेट्स