थिएटर गुलजार हों, इसलिए मैं घूम रहा हूं : सलमान

थिएटर गुलजार हों, इसलिए मैं घूम रहा हूं : सलमान

चंडीगढ़ एयरपोर्ट पर मंगलवार को बालीवुड अभिनेता सलमान खान। -नितिन मित्तल

केवल तिवारी/ट्रिन्यू

चंडीगढ़, 30 नवंबर

सिनेमाघरों में जितनी रौनक लौटेगी, उतना ही अच्छा फिल्म इंडस्ट्री और थियेटर स्टाफ के लिए होगा। ओटीटी प्लेटफार्म बहुत सफल नहीं है। आखिरकार थियेटर ही गुलजार होंगे। लोग थियेटर जाएं इसलिए मैं जगह-जगह घूम रहा हूं। कुछ ही दिनों में हैदराबाद, बेंगलुरू सहित कई जगहों पर जाना है। यह बात बॉलीवुड के दबंग यानी सलमान खान ने कही। सलमान मंगलवार को चंडीगढ़ में अपनी फिल्म 'अंतिम : द फाइनल ट्रूथ' के प्रमोशन के लिए पहुंचे थे। इस फिल्म में उनके साथ आयुष शर्मा भी हैं।

आयुष की एक्टिंग के सवाल पर सलमान ने कहा कि वह बहुत अच्छा अभिनय कर रहे हैं। साथ ही यह भी कहा कि 'अंतिम...' को लोग आयुष की फिल्म कह रहे हैं जो सरासर गलत है। यह फिल्म सलमान खान की है और इसकी सफलता-विफलता के लिए वही जिम्मेदार हैं। सलमान ने कहा कि आयुष अपने अभिनय के बल पर आगे बढ़ पाए तो लोग कहेंगे कि सलमान ने इंडस्ट्री को एक अच्छा एक्टर दिया। उन्होंने कहा, 'सचमुच आयुष के अभिनय की बहुत तारीफ हो रही है।'

सलमान पहली बार किसी फिल्म में सिख पुलिस वाले का रोल निभा रहे हैं। 'दैनिक ट्रिब्यून' से बातचीत के दौरान सलमान ने कहा कि उन्होंने पगड़ी बांधने की ट्रेनिंग ली। उन्होंने कहा, 'वाकई पगड़ी पहनकर गर्व महसूस होता है। इंस्पेक्टर राजवीर सिंह (फिल्म में सलमान का नाम) एक नेक काम के लिए अपनी पगड़ी को बिछा देता है।' सलमान खान किस तरह की फिल्में देखना पसंद करते हैं, पूछने पर उन्होंने कहा, 'जैसी फिल्में करता हूं, वैसी ही देखना भी पसंद करता हूं।' एक सिख पुलिसवाले की भूमिका से जुड़े एक सवाल पर उन्होंने कहा कि उनकी इच्छा पंजाबी फिल्म करने की भी है।

... जब भानजे आहिल ने पूछे सवाल

सलमान खान से जब पूछा गया कि उनके परिवारवालों की फिल्म के प्रति क्या प्रतिक्रिया रही, उन्होंने कहा कि उनके पिता ने फिल्म की बहुत तारीफ की। साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि उनके भानजे आहिल ने सवाल पूछ लिया कि पापा और मामा लड़ क्यों रहे हैं। साथ ही कई बार यह सवाल कि पापा ये सब क्या कर रहे हैं? ऐसे में आहिल को प्यार से समझाया गया कि यह एक्टिंग है। उन्होंने बताया कि एक बार तो उसे एक्टिंग करके दिखाना भी पड़ा।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अन्न जैसा मन

अन्न जैसा मन

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

एकदा

एकदा

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

मुख्य समाचार

कोल्हापुर : 14 बच्चों के अपहरण और 5 बच्चों की हत्या की दोषी बहनों की फांसी की सज़ा उम्रकैद में बदली

कोल्हापुर : 14 बच्चों के अपहरण और 5 बच्चों की हत्या की दोषी बहनों की फांसी की सज़ा उम्रकैद में बदली

मौत की सजा पर अमल में अत्यधिक विलंब के कारण हाईकोर्ट ने लिया...