आंगनवाड़ी कर्मियों का आंदोलन जारी

दूसरे दिन भी किया निदेशक कार्यालय का घेराव

दूसरे दिन भी किया निदेशक कार्यालय का घेराव

पंचकूला में बुधवार को निदेशक कार्यालय के बाहर वर्कर्स को संबोधित करतीं जगमति मलिक। -दैनिक ट्रिब्यून

पंचकूला, 13 अक्तूबर (ट्रिन्यू)

आंगनवाड़ी वर्कर्स एवं हेल्पर्स यूनियन की ओर से आज दूसरे दिन भी सेक्टर 4 स्थित महिला एवं बाल विकास विभाग की निदेशक के कार्यालय का घेराव किया गया। प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व वरिष्ठ महासचिव जगमति मलिक व जिला प्रधान उषा देवी ने किया। संचालन जिला उप प्रधान रीटा रानी ने किया।

जानकारी के अनुसार वर्कर्स ने आज दोपहर करीब ढाई घंटे तक निदेशक कार्यालय का घेराव किया और नारेबाजी की। वरिष्ठ महासचिव ने बताया कि अन्य मांगों के साथ-साथ उनकी मुख्य मांग कैथल की जिला प्रधान कमला को बहाल करने की भी है। जब तक मांगों को पूरा नहीं किया जाता तब तक सेक्टर 5 में धरना जारी रहेगा। धरने में सरोज रानी, सुमित्रा रानी, ममता

रानी, मीनाक्षी, दीपमाला, लक्ष्मी मधुबाला, सीमा रानी, सरबजीत ने भाग लिया। उनकी मुख्य मांगों में आंगनवाड़ी केंद्रों को एनजीओ के हवाले न करना, 2018 का समझौता लागू करना, कैथल में वर्कर्स पर बनाये केस वापस लेना, भारत सरकार द्वारा 25 से बढ़ाकर 50 प्रतिशत करना, पोषण ट्रैक एप पर रोक लगाना, वर्कर्स व हेल्पर्स को आयुष्मान योजना से जोड़ना, केंद्रों के भवनों का किराया समय पर देना, सिलेंडर की सप्लाई विभाग द्वारा सीधी करना, अतिरिक्त केंद्र का चार्ज संभालने पर वर्कर को 50 प्रतिशत अतिरिक्त मानदेय देना, रिटायरमेंट पर पेंशन सुविधा देना, फरवरी व मार्च 2018 के आंदोलन के समय का मानदेय देना, कोविड से मरीं वर्कर्स व हेल्पर्स के परिवार को 50 लाख की मदद देना शामिल है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

शाश्वत जीवन मूल्य हों शिक्षा के मूलाधार

शाश्वत जीवन मूल्य हों शिक्षा के मूलाधार

कानूनी चुनौती के साथ सामाजिक समस्या भी

कानूनी चुनौती के साथ सामाजिक समस्या भी

देने की कला में निहित है सुख-सुकून

देने की कला में निहित है सुख-सुकून

मुख्य समाचार

उत्तराखंड में मूसलाधार बारिश, 23 की मौत

उत्तराखंड में मूसलाधार बारिश, 23 की मौत

मौसम की मार नैनीताल का संपर्क कटा। यूपी में 4 की गयी जान

अपनी सियासी पार्टी बनाएंगे कैप्टन

अपनी सियासी पार्टी बनाएंगे कैप्टन

भाजपा के साथ सीटों के बंटवारे के लिए बातचीत को तैयार

दुर्भाग्य से यह देश का  यथार्थ : ऑक्सफैम

दुर्भाग्य से यह देश का  यथार्थ : ऑक्सफैम

भुखमरी सूचकांक  पाक, नेपाल से पीछे भारत