मानसून की तैयारी, नप फिर दिखा रही लाचारी

जीरकपुर में शुरू नहीं हुई नालों की सफाई, पिछले साल झेल चुके हैं तबाही

मानसून की तैयारी, नप फिर दिखा रही लाचारी

जीरकपुर, 15 मई (हप्र)

जीरकपुर नगर परिषद ने एक बार फिर से शहर वासियों को भगवान भरोसे छोड़ दिया है। प्रदेश के अन्य शहरों में जहां मानसून से पहले प्रबंधन शुरू हो चुका है वहीं जीरकपुर नगर परिषद इस दिशा में गहरी नींद में सो रही है।

पिछले साल जीरकपुर वासी बरसात के दिनों में भारी तबाही झेल चुके हैं। भीषण गर्मी के बावजूद जीरकपुर वासी इन दिनों प्रार्थना कर रहे हैं कि इस बार बारिश न हो। क्योंकि जीरकपुर नगर परिषद ने अतीत की गलतियों से कोई सबक नहीं लिया है। जैक रेजीडेंटस वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष सुखदेव चौधरी ने बताया कि लोगों में मानसून को लेकर भय बना हुआ है।

ओल्ड अंबाला रोड ढकौली जहां पिछले साल बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई थी वहां आज भी पानी निकासी का कोई प्रबंध नहीं है।

उन्होंने बताया कि बलटाना में बिल्डरों ने अपने लाभ के लिए पानी निकासी के सभी रास्तों को बंद कर दिया है। ढकौली, बलटाना, पीरमुछल्ला, वीआईपी रोड, सैनी विहार आदि इलाकों में मुख्य नाले बंद पड़े हैं। यहां कहीं भी निकासी के लिए फाइनल आउटलेट नहीं है।

जीरकपुर में हो जमीन का एक्सरे

जीरकपुर में वर्षों पहले पानी निकासी के लिए डाले गए पाइप या तो जमीन में टूट चुके हैं या फिर जमीदोज हो चुकी है। यही नहीं यहां पाइपें बीच में टूटकर बंद हो चुकी है। पानी आर-पार नहीं निकलने के कारण जमीन में समाता रहता है जिस कारण इमारतों को खतरा पैदा होता है। जीरकपुर में पानी निकासी के पाइपों का पता लगाने के लिए जमीन का एक्स रे स्टडी करवाने की मांग करते हुए जैक प्रधान ने कहा कि यहां एक भी कॉलोनी ऐसी नहीं है जिसका पानी शहर से बाहर जा रहा है। इसके बारे में वास्तिकता पता करने के लिए जमीन का एक्स रे जरूरी है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

योगमय संयोग भगाए सब रोग

योगमय संयोग भगाए सब रोग

जीवन के लिए साझे भविष्य का सपना

जीवन के लिए साझे भविष्य का सपना

यमुनानगर तीन दर्जन श्मशान घाट, गैस संचालित मात्र एक

यमुनानगर तीन दर्जन श्मशान घाट, गैस संचालित मात्र एक

शहर

View All