पत्रकार केजे सिंह हत्याकांड : हाईकोर्ट ने दी आरोपी गौरव को इलाज के लिये 3 माह की जमानत

पत्रकार केजे सिंह हत्याकांड : हाईकोर्ट ने दी आरोपी गौरव को इलाज के लिये 3 माह की जमानत

एसएएस नगर (मोहाली), 23 सितंबर (स/ट्रिन्यू)

शहर के वरिष्ठ पत्रकार केजे सिंह की हत्या के मामले में पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने आरोपी गौरव को 3 माह के लिये जमानत दी थी। इस मामले में गिरफ्तार अभियुक्त उत्तर प्रदेश के बुलन्दशहर निवासी गौरव कुमार ने अपने वकील के माध्यम से हाईकोर्ट में जमानत याचिका दायर की थी। बचाव पक्ष के वकील ने अदालत को बताया कि उसका मुवक्किल गौरव पिछले 2 साल और 10 महीने से जेल में है और बीमार है, उसका उपचार करवाना ज़रूरी है। उन्होंने अदालत को बताया कि आरोपी के सिरदर्द होने के बाद एक कान से सुनना बंद हो गया है। कोरोना महामारी के कारण जेल से अस्पताल में दैनिक या नियमित आधार पर इलाज कराना संभव नहीं है इसलिए आरोपी की जमानत मंजूर की जाए। अदालत ने बचाव पक्ष से सहमति जताई और आरोपी गौरव कुमार को 3 महीने की जमानत दे दी। अदालत ने आरोपी को 3 महीने के इलाज के बाद वापस जेल जाने का आदेश दिया है।

यह था मामला

पंजाब के मोहाली में अज्ञात लोगों ने वरिष्ठ पत्रकार केजे सिंह (65) और उनकी मां गुरचरण कौर (92) की हत्या कर दी थी। केजे सिंह की हत्या गला रेतकर, जबकि उनकी मां की हत्या गला घोंटकर की गयी। पंजाब सरकार ने मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित की। केजे सिंह अपनी मां के साथ मोहाली के फेस 3बी2 के मकान नंबर 1796 में रहते थे। शुरुआती जांच में पता चला था कि आरोपी दोहरे हत्याकांड को अंजाम देने के बाद एलईडी टीवी और कार और केजे सिंह का मोबाइल साथ ले गये। लेकिन केजे सिंह के गले में सोने की चेन और उनके पर्स में रखे 25 हजार रुपये वहीं मिले हैं। घर में अन्य कीमती सामान भी वैसे ही रखा मिला था। पुलिस के अनुसार अभियुक्त युवक पत्रकार केजे सिंह के निवास के करीबी पार्क में वारदात की रात संदिग्ध रूप से बैठा था। केजे सिंह ने जब इसपर आपत्ति जतायी, तो उनकी कहासुनी हो गई। केजे सिंह ने युवक को थप्पड़ जड़ दिये। इसके बाद युवक ने रसोई के चाकू से केजे सिंह की हत्या कर दी। हत्या की चश्मदीद होने के कारण उनकी मां की भी हत्या कर दी।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और उसके द्वंद्व

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और उसके द्वंद्व

भाषा की कसौटी पर न हो संवेदना की परख

भाषा की कसौटी पर न हो संवेदना की परख