पानी की बढ़ी दरों को लेकर कांग्रेस पार्षदों का वाॅकआउट

पानी की बढ़ी दरों को लेकर कांग्रेस पार्षदों का वाॅकआउट

रंजू ऐरी डडवाल/ट्रिन्यू

चंडीगढ़, 29 अक्तूबर

चंडीगढ़ नगर निगम सदन की आज 7 माह बाद हुई बैठक कांग्रेस व भाजपा पार्षदों में तीखी बहस के सात शुरू हुई। दोपहर बाद शुरू हुई बैठक देर रात तक चलती रही। 14 नियमित एजेंडों के साथ पांच टेबल एजेंडों को भी सदन पटल पर रखा गया।

बैठक के शुरू होते ही दोनों दलों के पार्षदों ने सेक्टर-23 बूथ मार्केट की दुकानों का किराया हजारों गुणा बढ़ाने के मुद्दे पर शोर-शराबा किया। कांग्रेस ने महापौर राजबाला मलिक से इस्तीफा मांगा तो हंगामा शुरू हो गया। कांग्रेस पार्षद दविंदर सिंह बबला ने कहा कि बिना सदन की मंजूरी के किस तरह किराया बढ़ाने के नोटिस जारी कर दिए गए जबकि फैसला वित्त एवं अनुबंध कमेटी ने लिया था।

सदन में आज पानी के मुद्दे पर कांग्रेसी पार्षदों ने जमकर हंगामा किया। कांग्रेस के पार्षदों ने निगम सदन में पानी की बढ़ायी दरें वापस लेकर पुरानी दरों पर पानी की आपूर्ति करने की मांग रखी। भाजपा द्वारा इसके विरुद्ध तर्क दिए जाने के बाद कांग्रेस पार्षदों ने सदन से वाॅकआउट किया ।

किराया 14 रुपये से बढ़ाकर 21,000 रुपये

शैडों के किराये पर चर्चा के लिए टेबल एजेंडा लाया गया। सदन में चर्चा के बाद निर्णय लिया गया कि इस पर विचार के लिए महापौर तीन-सदस्यीय कमेटी का गठन करेंगी। जब तक कमेटी की रिपोर्ट नहीं आती वहां के अलाॅटियों से पुरानी दरें पर ही किराया लिया जायेगा। दो माह पहले निगम की वित्त एवं अनुबध कमेटी ने सेक्टर-23 के बूथों का किराया 14 रुपये से बढ़ाकर 21,000 रुपये प्रति माह कर दिया था। इस पर जमकर राजनीति हो रही है।

पार्किंग ठेकेदारों को और रियायतें देने से इनकार

निगम ने शहर के पार्किंग ठेकेदारों को और रियायतें देने से इनकार कर दिया। आज की बैठक में कोविड-19 के कारण उत्पन्न परिस्थितियों के चलते इन्हें रियायतें देने का एजेंड़ा रखा गया था।

भाजपा पार्षद रविकांत का कहना था कि इन्हें निगम पहले ही गत अगस्त माह तक तीन माह की रियायत दे चुका है।

आगामी 30 नवंबर तक अगर यह निर्धारित समय में पार्किंग स्थलों को स्मार्ट नहीं करते हैं तो इनका करार रद्द भी किया जा सकता है।

क्लब, बार खुल सकते हैं तो अपनी मंडियां क्यों नहीं

पूर्व महापौर अरुण सूद का कहना था कि अगर प्रशासन नाइट क्लबों, बार, आदि को खुलने की अनुमति दे सकता है तो फिर अपनी मंडियों को अनुमति क्यों नहीं दी जा रही। उन्होंने प्रशासन से मांग की कि अपनी मंडियों को भी शीघ्र शुरू करने की अनुमति दी जाये। भाजपा पार्षद अरुण सूद ने आज शून्यकाल में स्ट्रीट वेंडर्स पर लगाये जा रहे जुर्माने का मामला उठाया। उनका कहना था कि त्योहारों के मौसम तक इन्फोर्समेंट की कोई कार्रवाई न हो।

एजेंडा तो आया पर घड़ियां नहीं हुईं वापस

चंडीगढ़ नगर निगम के सफाई कर्मचारी जिन जीपीएस युक्त घड़ियों का विरोध कर रहे थे, उस पर भी चर्चा के लिए टेबल एजेंडा ही लाया गया। ज्ञात रहे कि कुछ दिन पूर्व ही इसके विरुद्ध हड़ताल पर बैठे सफाई कर्मचारियों को भाजपा अध्यक्ष अरुण सूद आश्वासन देकर आये थे कि वह इस संबंध में सदन में एजेंड़ा लायेंगे। आज एजेंडा तो आया पर घड़ियां वापस नहीं हुईं।

सार्वजनिक शौचालयों पर लगेंगे विज्ञापन

सदन ने शहर में विभिन्न स्थानों पर 55 सार्वजनिक शौचालयों पर विज्ञापन लगाने की अनुमति देने का एजेंडा, औद्योगिक क्षेत्र फेस-1 की गौशाला के लिए हरा व सूखा चारा खरीदने का एजेंडा, औद्योगिक क्षेत्र के स्टोर में पड़े कबाड़ की नीलामी, मनीमाजरा बस स्टैंड पर जूस डिस्पेंसिंग बूथों के किराये, स्वयं सहायता ग्रुपों द्वारा गांवों में सार्वजनिक शौचालयों के रखरखाव, सेक्टर 17/22 में सब-वे में खाली पड़े बूथों की नीलामी के एजेंडे पारित किए।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

संदेह के खात्मे से विश्वास की शुरुआत

संदेह के खात्मे से विश्वास की शुरुआत

चलो दिलदार चलो...

चलो दिलदार चलो...