एकदा

कठिन परिस्थिति के संयम

कठिन परिस्थिति के संयम

श्रावस्ती में विदेहिका नाम की एक धनी स्त्री रहती थी। वह अपने शांत और सौम्य व्यवहार के कारण दूर-दूर तक प्रसिद्ध थी। विदेहिका के घर में काली नाम का एक नौकर था। काली अपने काम और आचरण में बहुत कुशल और वफादार था। एक दिन काली ने सोचा, ‘सभी लोग कहते है कि मेरी मालकिन बहुत शांत स्वभाव वाली है और उसे कभी क्रोध नहीं आता, यह कैसे संभव है! शायद मैं अपने काम में इतना अच्छा हूं, इसलिए वह मुझ पर कभी क्रोधित नहीं हुई। मुझे यह पता लगाना होगा कि वह क्रोधित हो सकती है या नहीं।’ अगले दिन काली काम पर कुछ देरी से आया। विदेहिका ने जब उससे विलम्ब से आने के बारे में पूछा तो वह बोला, ‘कोई खास बात नहीं।’ विदेहिका ने कुछ कहा तो नहीं, पर उसे काली का उत्तर अच्छा नहीं लगा। दूसरे दिन काली थोड़ा और देर से आया। विदेहिका ने फिर उससे देरी से आने का कारण पूछा। काली ने फिर से जवाब दिया, ‘कोई खास बात नहीं।’ यह सुनकर विदेहिका बहुत नाराज हो गई, लेकिन वह चुप रही। तीसरे दिन भी यही हुआ तो मारे क्रोध के विदेहिका ने काली के सिर पर डंडा दे मारा। काली के सिर से खून बहने लगा और वह घर के बाहर भागा। यह बात आग की तरह फैल गई और विदेहिका की ख्याति मिट्टी में मिल गई। कठिन परिस्थितियों में भी जो दृढ़ रहता है,वही अपनी बुराइयों पर पार पा सकता है।

प्रस्तुति : विनय मोहन

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

शाश्वत जीवन मूल्य हों शिक्षा के मूलाधार

शाश्वत जीवन मूल्य हों शिक्षा के मूलाधार

कानूनी चुनौती के साथ सामाजिक समस्या भी

कानूनी चुनौती के साथ सामाजिक समस्या भी

देने की कला में निहित है सुख-सुकून

देने की कला में निहित है सुख-सुकून

मुख्य समाचार

उत्तराखंड में मूसलाधार बारिश, 23 की मौत

उत्तराखंड में मूसलाधार बारिश, 23 की मौत

मौसम की मार नैनीताल का संपर्क कटा। यूपी में 4 की गयी जान

अपनी सियासी पार्टी बनाएंगे कैप्टन

अपनी सियासी पार्टी बनाएंगे कैप्टन

भाजपा के साथ सीटों के बंटवारे के लिए बातचीत को तैयार

दुर्भाग्य से यह देश का  यथार्थ : ऑक्सफैम

दुर्भाग्य से यह देश का  यथार्थ : ऑक्सफैम

भुखमरी सूचकांक  पाक, नेपाल से पीछे भारत