नीचभंग राजयोग मकर में साथ आये गुरु, शनि

नीचभंग राजयोग मकर में साथ आये गुरु, शनि

मदन गुप्ता सपाटू

मेदनीय ज्योतिष के अनुसार जब भी बड़े ग्रह राशि बदलते हैं, तो लोक भविष्य में विशेष बदलाव आता है। बीती 20 नवंबर को गुरु यानी बृहस्पति ग्रह ने अपनी नीच राशि मकर में प्रवेश किया है। गुरु इस राशि में 6 अप्रैल 2021 तक रहेंगे। शनि ग्रह पहले ही मकर राशि में है। ज्योतिष में गुरु और शनि का एकसाथ मकर राशि में होना नीचभंग राजयोग कहलाता है। यह भी कहा जाता है कि गुरु के प्रभाव में कमी आती है। गुरु-शनि का यह संगम सबसे अधिक मौसम को प्रभावित करेगा। शनि का मकर में रहना देश का उत्थान दर्शा रहा है और कमजोर वर्ग के लिए रोजगार के अवसर बढ़ सकते हैं। वहीं, गुरु का वर्ष भर नीचस्थ रहना विश्व में राजनीतिक उथल-पुथल, देशों में दुश्मनी बढ़ना दर्शाता है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बृहस्पति एक शुभ ग्रह है और इसे गुरु की संज्ञा भी दी गई है। यह धनु और मीन राशि का स्वामी होता है। कर्क इसकी उच्च राशि है, जबकि मकर इसकी नीच राशि मानी जाती है।

कुंडली में स्थित भिन्न-भिन्न भावों पर गुरु के भिन्न-भिन्न परिणाम देखने को मिलते हैं। कुंडली में बृहस्पति के बलवान होने पर जातक को आर्थिक और वैवाहिक जीवन में अच्छे परिणाम मिलते हैं।

बृहस्पति के अच्छे प्रभाव के लिए गुरुवार को घी, हल्दी व चना दाल का दान करें। गाय को रोटी खिलाएं। पीपल के पेड़ को जल दें। घर में कपूर का दीपक जलाएं। केसर का तिलक माथे पर लगाएं। पीला रुमाल अपने पास रखें। केले के वृक्ष की पूजा गुरुवार के दिन करें। पीले पदार्थ गरीबों में बांटें। शिव भगवान की आराधना करें, रुद्राभिषेक करें। शिवलिंग पर रोज जल चढ़ाएं। जरूरतमंद को गेहूं व हल्दी का दान करें। गरीबों को भोजन करवाएं। बड़ों का सम्मान करें। गायत्री चालीसा का पाठ करें।

गुरु के राशि परिवर्तन का फल

मेष : धन लाभ होगा। मेहनत का फायदा मिलेगा। भाइयों और दोस्तों से मदद मिल सकती है। प्रेम संबंधों में सुधार देखने को मिलेगा। मकान, वाहन, संपत्ति में निवेश कर सकते हैं।

वृष : पैतृक संपत्ति प्राप्त होने की संभावना है।

यात्रा के भी योग हैं। कोई गुप्त बात उजागर हो सकती है। व्यर्थ के विवादों में पड़ने से बचने का प्रयास करना चाहिए।

मिथुन : धार्मिक कार्यों से जुड़ने का प्रयास करेंगे। जीवनसाथी से विवाद हो सकता है। सेहत संबंधी परेशानी हो सकती है।

कर्क : कानूनी कार्यों में सफलता मिलने की पूरी संभावना है। दुश्मनों पर जीत मिल सकती है। यात्राएं कर सकते हैं। आमदनी में बढ़ोतरी होगी, पुराने कर्ज भी चुका पाएंगे। वैवाहिक जीवन सामान्य रहेगा, विवाह की प्रतीक्षा कर रहे जातकों को योग्य साथी मिलने की उम्मीद है।

सिंह : वित्तीय लेन-देन में सावधानी बरतें। आर्थिक परेशानी हो सकती है। योजनाएं अधूरी रह सकती हैं। ज्ञान में बढ़ोतरी होगी और बेहतर शिक्षा प्राप्त कर पाएंगे। विदेश यात्रा से लाभ मिलेगा। नौकरी में किसी तरह के बदलाव से बचें।

कन्या : जो नौकरी की तलाश कर रहे हैं, उन्हें सफलता मिलेगी। सुख में कमी आ सकती है, लेकिन नौकरी और बिजनेस में आगे बढ़ने के मौके मिलेंगे। सम्मान में बढ़ोतरी होगी, प्रियजनों से भरपूर समर्थन मिलेगा।

तुला : खेल से जुड़ी प्रतियोगिताओं में अच्छा प्रदर्शन करेंगे। धार्मिक यात्रा होने के योग हैं। नौकरी में प्रमोशन मिलने की संभावना है। कार्य स्थल पर उच्च अधिकारियों का पूरा समर्थन मिलेगा। फैसले आसानी से ले पाएंगे। रुके काम होंगे।

वृश्चिक : तरक्की के योग बन रहे हैं। धन लाभ होगा। गुरु कई तरह से लाभान्वित कर सकता है। नौकरीपेशा और व्यापारी वर्ग के लिए समय उत्तम रहेगा। धर्म-कर्म, व्रत व दान के लिए उत्तम समय है। वाणी पर संयम रखें। रुके हुए कई कार्य फिर शुरू होंगे।

धनु : सुखद सूचना मिलेगी। रोजमर्रा के कामों से फायदा हो सकता है। व्यापारियों को व्यापार विस्तार में सहायता मिलेगी। अधूरे कार्य पूरे होंगे और आपको इसका श्रेय भी मिलेगा।

मकर : सफलता के साथ स्थान परिवर्तन के योग बन रहे हैं। सेहत संबंधी परेशानी रहेगी। यात्रा के योग हैं। विद्यार्थी वर्ग को अच्छे लाभ मिल सकते हैं। विदेश यात्रा से भी लाभ मिलने की संभावना है।

कुंभ : मकान व वाहन जैसी चीजों पर व्यय कर सकते हैं। पेट व गले में बीमारी हो सकती है। संतान की सेहत को लेकर परेशानी हो सकती है। मान-सम्मान में बढ़ोतरी होगी। अपने कार्य में अभी बदलाव न करें। 

मीन : धैर्य के साथ काम लें और स्थिति को अनुकूल बनाने का प्रयास करें। किस्मत का साथ मिलेगा। सम्मान भी बढ़ेगा। संपत्ति लाभ के योग बन रहे हैं। घरेलू जीवन में कलह का सामना करना पड़ सकता है। व्यापारी और नौकरीपेशा वर्ग के लिए समय अनुकूल है और आपको उच्च अधिकारियों से भरपूर सहयोग मिलेगा।

(च्ंाद्र राशि के अनुसार)

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

महामारी को अवसर बनाने की करतूतें

महामारी को अवसर बनाने की करतूतें

खोये बच्चे की मां की खुशी ही प्रेरणा

खोये बच्चे की मां की खुशी ही प्रेरणा

कोर्ट की सख्ती के बाद खाली होंगे आवास

कोर्ट की सख्ती के बाद खाली होंगे आवास

संदेह के खात्मे से विश्वास की शुरुआत

संदेह के खात्मे से विश्वास की शुरुआत