जूना अखाड़ा में नगा संन्यासियों का दीक्षा संस्कार

जूना अखाड़ा में नगा संन्यासियों का दीक्षा संस्कार

हरिद्वार में सोमवार को नगा साधु बनने की रस्म में भाग लेते जूना अखाड़े के साधु। -एजेंसी

हरिद्वार, 5 अप्रैल (एजेंसी)

नगा संन्यासियों के सबसे बड़े अखाड़े श्री पंच दशनाम जूना अखाड़ा में सोमवार से ‘संन्यास दीक्षा’ का बृहद आयोजन शुरू हो गया है और इस अखाड़े में करीब एक लाख संन्यासियों को दीक्षा संस्कार दिया जाएगा । जूना अखाड़े के अंतरराष्ट्रीय सचिव तथा कुंभ मेला प्रभारी महंत महेशपुरी ने बताया कि संन्यास दीक्षा के लिए सभी चारों मढ़ियों (समूहों)- चार, सोलह, तेरह और चौदह मढ़ी- के लिए नगा संन्यासियों का पंजीकरण किया गया है। उन्होंने बताया कि नगा साधु बनने वाले आवेदकों की बारीकी से जांच के बाद दीक्षा के लिए केवल योग्य एवं पात्र साधुओं का ही चयन किया गया है।

उल्लेखनीय है कि नगा संन्यासी बनने के लिए कई कठिन परीक्षाओं से गुजरना पड़ता है। इसके लिए सबसे पहले नगा संन्यासी को महापुरुष के रूप में दीक्षित कर अखाड़े में शामिल किया जाता है। तीन साल तक महापुरुष के रूप में दीक्षित संन्यासी को संन्यास के कड़े नियमों का पालन करते हुए गुरु सेवा के साथ-साथ अखाड़े में विभिन्न कार्य करने पड़ते हैं। तीन साल की कठिन साधना में खरा उतरने के बाद कुंभ पर्व पर उन्हें नगा बनाया जाता है। नगा साधु बनने के लिये दीक्षा प्रक्रिया आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद महाराज के दिशा-निर्देशन में चल रही है।

 

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

राजनेताओं की जवाबदेही का सवाल

राजनेताओं की जवाबदेही का सवाल

तेल से अर्जित रकम का कीजिए सदुपयोग

तेल से अर्जित रकम का कीजिए सदुपयोग

ताऊ और तीसरी धारा की राजनीति

ताऊ और तीसरी धारा की राजनीति

अभिमान से मुक्त होना ही सच्चा ज्ञान

अभिमान से मुक्त होना ही सच्चा ज्ञान

फलक पर स्थापित ‘थलाइवा’ को फाल्के

फलक पर स्थापित ‘थलाइवा’ को फाल्के

नंदीग्राम रणभूमि के नये सारथी शुभेंदु

नंदीग्राम रणभूमि के नये सारथी शुभेंदु

राजनीति से अहद-ए-वफा चाहते हो!

राजनीति से अहद-ए-वफा चाहते हो!