एकदा

तत्व ज्ञान का बोध

तत्व ज्ञान का बोध

एक विद्वान काशी से अध्ययन कर अपने राज्य लौटे। एक दिन लोगों ने उन्हें सुझाव दिया कि आपका स्थान तो दरबार में बैठने योग्य है। वैसे भी अपने राजा विद्वानों का सम्मान करते हैं। संभव है कि राजा आपको दरबार में उचित स्थान भी प्रदान करें। वे राजदरबार में पहुंच गए। राजा ने उनसे आने का कारण पूछा। विद्वान ने कहा, ‘महाराज मैं आपको गीता भाष्य सुनाना चाहता हूं।’ राजा ने नम्रतापूर्वक कहा कि आप सात बार गीता पढ़कर आएं । मैं फिर आपसे गीता सुनूंगा।’ विद्वान को राजा की बात अच्छी नहीं लगी। वे घर लौट आए और पत्नी को सारा वृत्तांत सुनाया। पत्नी ने उन्हें समझाया कि राजा विद्वान है। उन्होंने कुछ सोचकर ही यह परामर्श दिया होगा। सात बार अध्ययन करके वे फिर राजा के पास आए। राजा ने फिर निवेदन किया कि आप पुन: गीता का सात बार चिन्तन करें। उनकी पत्नी ने पुन: वैसा ही करने को कहा। वे एकान्त में गीता पढ़ने लगे। धीरे-धीरे वे गीता के तत्त्व ज्ञान से जुड़ने लगे। गीता-बोध होने पर हृदय में आनन्द-प्रवाह उमड़ने लगा। वे अपने गीता-विक्रय के विचार पर पश्चाताप करने लगे। कुछ दिन बाद राजा स्वयं उन्हें खोजते हुए आए और बहुत आदर से निवेदन किया कि अब आप गीतामय हो गए हैं। मुझे गीता सुनाइए।

प्रस्तुति : सुधीर सक्सेना ‘सुधि’

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

नाजुक वक्त में संयत हो साथ दें अभिभावक

नाजुक वक्त में संयत हो साथ दें अभिभावक

आत्मनिर्भरता संग बचत की धुन

आत्मनिर्भरता संग बचत की धुन

हमारे आंगन में उतरता अंतरिक्ष

हमारे आंगन में उतरता अंतरिक्ष

योगमय संयोग भगाए सब रोग

योगमय संयोग भगाए सब रोग

मुख्य समाचार

राजौरी में उड़ी जैसा हमला, 2 फिदायीन ढेर

राजौरी में उड़ी जैसा हमला, 2 फिदायीन ढेर

आतंकियों से लड़ते हुए हरियाणा के 2 जवानों सहित 4 शहीद

मुफ्त के वादे... सुप्रीम कोर्ट ने पूछे सियासी इरादे

मुफ्त के वादे... सुप्रीम कोर्ट ने पूछे सियासी इरादे

सभी पक्षों से 17 से पहले इस पहलू पर मांगे सुझाव

91 हजार के लिए स्वर्गधाम जा रही पेंशन!

91 हजार के लिए स्वर्गधाम जा रही पेंशन!

कैग रिपोर्ट में पकड़ा गया हरियाणा के सामाजिक न्याय विभाग का ...

शहर

View All