एकदा

असली शान

असली शान

बाबा आमटे की मां अधिक पढ़ी-लिखी न थी, लेकिन बुद्धिमान बहुत थी। वह बातों को बड़े सुंदर ढंग से समझाती थी। एक बार उन्होंने अपने पुत्र आमटे को एक जापानी गुड़िया दी। वह गुड़िया जितनी बार भी गिरती थी, उतनी बार ही उठ खड़ी होती। उन्होंने अपने पुत्र को गुड़िया देते हुए समझाया, ‘बेटा, इस गुड़िया को तुम गिराते-गिराते थक जाअोगे, लेकिन यह गुड़िया हर बार उठ खड़ी होगी। इसी तरह जीवन में तुम्हें बार-बार गिरना पड़ेगा, तो तुम्हें भी इस गुड़िया की भांति बिना थके-हारे बार-बार उठना होगा। शर्म गिरने या हारने में नहीं है बल्कि असली शान गिरकर तुरंत उठ खड़े होने में है तथा हार न मानना ही जीवन का दूसरा नाम है।’ मां की बात बाबा आमटे ने अच्छी तरह से गांठ बांध ली। वे गम्भीर बीमारी के बाद भी कुष्ठ रोगियों के लिए आश्रम चलाते रहे।

प्रस्तुति : भूपसिंह ‘भारती’

 

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

राजनेताओं की जवाबदेही का सवाल

राजनेताओं की जवाबदेही का सवाल

तेल से अर्जित रकम का कीजिए सदुपयोग

तेल से अर्जित रकम का कीजिए सदुपयोग

ताऊ और तीसरी धारा की राजनीति

ताऊ और तीसरी धारा की राजनीति

अभिमान से मुक्त होना ही सच्चा ज्ञान

अभिमान से मुक्त होना ही सच्चा ज्ञान

फलक पर स्थापित ‘थलाइवा’ को फाल्के

फलक पर स्थापित ‘थलाइवा’ को फाल्के

नंदीग्राम रणभूमि के नये सारथी शुभेंदु

नंदीग्राम रणभूमि के नये सारथी शुभेंदु

राजनीति से अहद-ए-वफा चाहते हो!

राजनीति से अहद-ए-वफा चाहते हो!