एकदा

आराम से अकर्मण्यता

एकदा

एक बार एक अमेरिकी कंपनी ने जापान में अपना कार्यालय शुरू किया। जाहिरा तौर पर कंपनी के कामगार जापानी ही चुने जाने थे। उन दिनों कंपनी के अमेरिकी कार्यालयों में सप्ताह में पांच दिन कामकाज होता था। कर्मचारी सप्ताह में पांच दिन काम करते थे और दो दिन छुट्टी। जबकि एशियाई देशों में छह दिन कार्य सप्ताह होता था। अमेरिकी कंपनी के अधिकारियों ने अपने जापानी कर्मियों को भी पांच दिन के सप्ताह का प्रस्ताव दिया। लेकिन जापानी कर्मचारियों ने इस प्रस्ताव का पुरजोर विरोध किया। कर्मचारियों का तर्क था कि हमारे लिये सप्ताह में एक दिन का अवकाश पर्याप्त है। यदि हमने सप्ताह में दो दिन का अवकाश लिया तो हम अकर्मण्य व आलसी हो सकते हैं। दो दिन के अवकाश का उपयोग करने के लिये हमें सैर-सपाटे व मनोरंजन पर अधिक धन खर्च करने की लत लग जायेगी। इस तरह पांच दिन का सप्ताह न केवल हमारा अनावश्यक आर्थिक अपव्यय बढ़ाएगा बल्कि हमें अकर्मण्य भी बनायेगा।

प्रस्तुति : मधुसूदन शर्मा

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

नाजुक वक्त में संयत हो साथ दें अभिभावक

नाजुक वक्त में संयत हो साथ दें अभिभावक

आत्मनिर्भरता संग बचत की धुन

आत्मनिर्भरता संग बचत की धुन

हमारे आंगन में उतरता अंतरिक्ष

हमारे आंगन में उतरता अंतरिक्ष

योगमय संयोग भगाए सब रोग

योगमय संयोग भगाए सब रोग

मुख्य समाचार

राजौरी में उड़ी जैसा हमला, 2 फिदायीन ढेर

राजौरी में उड़ी जैसा हमला, 2 फिदायीन ढेर

आतंकियों से लड़ते हुए हरियाणा के 2 जवानों सहित 4 शहीद

मुफ्त के वादे... सुप्रीम कोर्ट ने पूछे सियासी इरादे

मुफ्त के वादे... सुप्रीम कोर्ट ने पूछे सियासी इरादे

सभी पक्षों से 17 से पहले इस पहलू पर मांगे सुझाव

91 हजार के लिए स्वर्गधाम जा रही पेंशन!

91 हजार के लिए स्वर्गधाम जा रही पेंशन!

कैग रिपोर्ट में पकड़ा गया हरियाणा के सामाजिक न्याय विभाग का ...

शहर

View All