मेस्सी रिकार्ड छठी बार बने फीफा के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी

मैड्रिड, 3 दिसंबर (एएफपी)

स्पेन के मैड्रिड में आयोजित समारोह में अर्जेंटीना के स्टार लियोनेल मेस्सी फीफा के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का पुरस्कार पाने के बाद ट्राफी दिखाते हुए। इस समारोह में मेस्सी (दायें) अपनी पत्नी अौर बच्चों के साथ पहुंचे थे। -एजेंसी

अपने क्लब और देश के लिये कठिन दौर में भी फुटबाल के मैदान पर अपने फन का शानदार मुजाहिरा पेश करने वाले अर्जेंटीना के स्टार लियोनेल मेस्सी ने रिकार्ड छठी बार फीफा के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का पुरस्कार जीता। पिछले सत्र में बार्सीलोना का प्रदर्शन औसत रहा जबकि कोपा अमेरिका के सेमीफाइनल में ब्राजील ने अर्जेंटीना को हरा दिया। इसके बावजूद मेस्सी का प्रदर्शन 2019 में शानदार रहा। अब उनके नाम फुटबाल के इतिहास में सबसे अधिक बार यह सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार हो गया है। उन्होंने पांचवां ‘बलून डि ओर’ पुरस्कार 4 साल पहले जीता था। उनके चिर प्रतिद्वंद्वी क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने 5 बार यह पुरस्कार जीता है जबकि जोहान क्रफ, माइकल प्लातिनी और मार्को वान बास्टेन के नाम पर 3-3 पुरस्कार दर्ज हैं। मेस्सी ने इस साल 54 मैच खेलकर 46 गोल किये और 17 गोल में सूत्रधार की भूमिका निभाई। उन्होंने बार्सीलोना के लिये 44 मैचों में 41 गोल किये और 15 में सहायता की जिनमें 3 हैट्रिक शामिल हैं। बतौर कप्तान मेस्सी ने पहले सत्र में टीम को लगातार तीसरा ला लिगा खिताब दिलाया। उन्होंने लेवांटे के खिलाफ फाइनल में विजयी गोल भी दागा। चैम्पियंस लीग में सर्वाधिक 12 गोल करके मेस्सी ने लगातार तीसरे साल गोल्डन शू पुरस्कार जीता जो उनके कैरियर का छठा खिताब था। उन्होंने ला लिगा में 34वीं हैट्रिक लगाकर रोनाल्डो के रिकार्ड की बराबरी की। उनके कैरियर के कुछ ही साल अब बचे हैं लेकिन अपने पैरों के जादू से उन्होंने इस खूबसूरत खेल के महानतम खिलाड़ियों में अपना नाम शामिल करा लिया है। अमेरिका की विश्वकप सुपरस्टार मेगान रोपिनो ने महिला वर्ग में पुरस्कार जीता। मेगान पुरस्कार लेने नहीं पहुंच सकी लेकिन मेस्सी अपनी पत्नी और दोनों बच्चों के साथ आये थे। यह 2015 के बाद मेस्सी का पहला ‘बलून डीओर’ पुरस्कार और कैरियर का रिकार्ड छठा पुरस्कार है।

‘उम्र का असर खेल पर नहीं पड़ने दूंगा’ छठी बार फीफा के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का पुरस्कार जीतने वाले 32 बरस के लियोनेल मेस्सी ने कहा कि वह उम्र को अपने खेल के आड़े नहीं आने देंगे। मेस्सी ने पिछले साल के विजेता लूका मोडरिच से पुरस्कार लेने के बाद कहा, ‘मैंने 10 साल पहले पहली बार यह खिताब जीता था। मैं 22 बरस का था और अपने तीनों भाइयों के साथ यहां आया था। मेरे लिये यह सपने जैसा था।’ उन्होंने कहा, ‘सब कुछ ठीक रहा तो मुझे लगता है कि कुछ साल और खेल सकता हूं। समय मानो उड़ रहा है और सब कुछ अचानक हो रहा है। मुझे उम्मीद है कि यूं ही खेल का मजा लेता रहूंगा।’ मेस्सी ने लीवरपूल के डिफेंडर वर्जिल वान डिक को पछाड़ा जबकि क्रिस्टियानो रोनाल्डो तीसरे स्थान पर रहे।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

पाक सेना के तीर से अधीर हामिद मीर

पाक सेना के तीर से अधीर हामिद मीर

नीति-निर्धारण के केंद्र में लाएं गांव

नीति-निर्धारण के केंद्र में लाएं गांव

असहमति लोकतांत्रिक व्यवस्था का हिस्सा

असहमति लोकतांत्रिक व्यवस्था का हिस्सा

बदलोगे नज़रिया तो बदल जाएगा नज़ारा

बदलोगे नज़रिया तो बदल जाएगा नज़ारा

मुख्य समाचार

यूपी : बाराबंकी में लुधियाना से बिहार जा रही प्राइवेट बस से टकराया ट्रक, 18 लोगों की मौत, 25 अन्य घायल

यूपी : बाराबंकी में लुधियाना से बिहार जा रही प्राइवेट बस से टकराया ट्रक, 18 लोगों की मौत, 25 अन्य घायल

खराब होने के कारण सड़क किनारे खड़ी थी बस, ट्रक ने मारी टक्कर

बादलों ने मचाई तबाही : जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में 7 की मौत, 40 लापता; पन बिजली परियोजना समेत कई मकान ध्वस्त

बादलों ने मचाई तबाही : जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में 7 की मौत, 40 लापता; पन बिजली परियोजना समेत कई मकान ध्वस्त

कारगिल के खंगराल गांव और जंस्कार हाईवे के पास स्थित सांगरा ग...