भारतीय खिलाड़ियों में दबाव के समय ‘मानसिक मजबूती' की कमी : गंभीर

नयी दिल्ली, 13 जून (एजेंसी) पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर को लगता है कि भारतीय खिलाड़ियों में मुश्किल हालात में दबाव से निपटने के लिये ‘मानसिक मजबूती' की कमी है और वे तब तक खुद को विश्व चैम्पियन नहीं कह सकते, जब तक विश्व कप जैसे बड़े टूर्नामेंट में खुद को साबित नहीं करते। भारत ने 1983 और 2011 में दो बार वनडे विश्व कप खिताब अपने नाम किया है, लेकिन चार बार वह टूर्नामेंट के सेमीफाइनल चरण से बाहर हो चुका है, जिसमें पिछले दो चरण 2015 और 2019 शामिल हैं। टी-20 विश्व कप में भारत ने 2007 में शुरूआती चरण में ट्राफी जीती थी और टीम 2014 में फाइनल में पहुंचा था। गंभीर ने स्टार स्पोर्ट्स के ‘क्रिकेट कनेक्टिड' शो में कहा, ‘टीम में एक अच्छे खिलाड़ी और एक बहुत अच्छे खिलाड़ी के बीच में से क्या चीज आपको अलग करती है, वह है कि आप महत्वपूर्ण मैचों में कैसा करते हो। मुझे लगता है कि शायद हम दबाव से अच्छी तरह से नहीं निपट पाते जबकि अन्य टीमें दबाव से अच्छी तरह निपट लेती हैं।' उन्होंने कहा, ‘अगर आप सभी सेमीफाइनल और फाइनल को देखो तो इसमें दिखता है कि जब आप लीग चरण में काफी अच्छा खेलते हो तो सेमीफाइनल या नाकआउट में इतना अच्छा नहीं खेलते, यह शायद आपकी मानसिक मजबूती ही है।'

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All