लोहे के बगैर अबूधाबी का पहला मंदिर, नींव भरी

दुबई, 14 फरवरी (एजेंसी) संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की राजधानी अबूधाबी में पहले हिंदू मंदिर के निर्माण में लोहे या उससे बनी सामग्री का इस्तेमाल नहीं होगा। इसका निर्माण भारत की पारंपरिक मंदिर वास्तुकला के तहत किया जाएगा। मंदिर समिति के अधिकारियों ने यह जानकारी दी। मंदिर के शिलान्यास के दो साल बाद अब इसकी नींव में फ्लाई ऐश कंकरीट भरने का काम पूरा हो गया। इस दौरान बड़ी संख्या में भारतीय मूल के लोग मंदिर स्थल पर मौजूद रहे। मंदिर समिति के प्रवक्ता अशोक कोटेचा ने कहा ‘भारत की पारंपरिक मंदिर वास्तुकला के अनुसार, इस मंदिर के निर्माण में इस्पात या इससे बनी सामग्री का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा।’ उन्होंने कहा, ‘नींव को मजबूती देने के लिए फ्लाई ऐश का इस्तेमाल किया जाएगा।’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2018 में संयुक्त अरब अमीरात में दुबई के ओपेरा हाउस से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बोचासनवासी अक्षर पुरुषोत्‍तम संस्‍था (बीएपीएस) मंदिर की आधारशिला रखी थी। यूएई में भारतीय मूल के 30 लाख से अधिक लोग रहते हैं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश