पुलित्जर पुरस्कार विजेता सिद्धार्थ मुखर्जी, प्रोफेसर राज चेट्टी ‘2020 ग्रेट इमिग्रेंट्स' से सम्मानित

न्यूयॉर्क, 2 जुलाई (एजेंसी) कोविड-19 स्वास्थ्य संकट को दूर करने के प्रयासों में योगदान देने वाले दो प्रख्यात भारतीय-अमेरिकी उन 38 प्रवासियों में शामिल हैं जिन्हें इस साल अमेरिका के स्वतंत्रता दिवस समारोह के मद्देनजर प्रतिष्ठित अमेरिकन फाउंडेशन द्वारा सम्मानित किया गया है। पुलित्जर पुरस्कार विजेता लेखक और ऑनकोलॉजिस्ट (कैंसर विशेषज्ञ) सिद्धार्थ मुखर्जी और हार्वर्ड विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर राज चेट्टी को कार्नेगी कोरपोरेशन ऑफ न्यूयॉर्क ने ‘2020 ग्रेट इमिग्रेंट्स' से सम्मानित किया है। कोरपोरेशन ने बुधवार को एक बयान में यह जानकारी दी। नयी दिल्ली में जन्मे मुखर्जी प्रख्यात जीव विज्ञानी, ऑन्कोलॉजिस्ट और कई लोकप्रिय किताबों के लेखक हैं जिनमें पुलित्जर पुरस्कार विजेता किताब ‘द एम्परर ऑफ ऑल मैलेडीज: ए बायोग्राफी ऑफ कैंसर' भी शामिल हैं। वह 2009 से कोलंबिया विश्वविद्यालय में पढ़ा रहे हैं जहां वह औषधि के सहायक प्रोफेसर हैं और न्यूयॉर्क प्रेसबायटेरियन अस्पताल में डॉक्टर हैं। 2014 में मुखर्जी को भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म श्री से सम्मानित किया गया था। नयी दिल्ली में जन्मे राज चेट्टी हार्वर्ड के इतिहास में सबसे युवा प्रोफेसरों में से एक हैं। इसके अलावा वह एक शोध लैब ‘ऑपोरच्यूनिटी इनसाइट’ भी चलाते हैं जिसका मकसद आर्थिक और सामाजिक गतिशीलता के अवरोधकों की पहचान करना और इनसे निपटने के लिए नीति बनाना है। उन्होंने अमेरिका में लोगों, कारोबारों और समुदायों पर कोविड-19 के आर्थिक असर पर नजर रखने में मदद की।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All