जस्टिस मिश्रा थोड़ा और धैर्य रखें !

नयी दिल्ली, 4 दिसंबर (एजेंसी) सुप्रीमकोर्ट एडवोकेट ऑन रिकार्ड एसोसिएशन (एससीएओआरए) ने जस्टिस अरुण मिश्रा द्वारा हाल ही में एक मामले की सुनवाई के दौरान वरिष्ठ अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन को 'अवमानना की धमकी' देने पर बुधवार को चिंता व्यक्त की और उनसे आग्रह किया कि वकीलों के साथ बातचीत में थोड़ा और संयम बरतें। कोर्ट की 5 सदस्यीय संविधान पीठ के समक्ष मंगलवार को भूमि अधिग्रहण की सुनवाई के दौरान जस्टिस मिश्रा और शंकरनारायण के बीच हुयी नोकझोंक की पृष्ठभूमि में एससीएओआरए ने प्रस्ताव पारित किया है। इससे पहले जस्टिस मिश्रा ने शंकरनारायणन से कहा था कि वह दलीलों को दोहरायें नहीं। शंकरनारायणन को अवमानना की धमकी दिये जाने पर वह न्यायालय कक्ष से बाहर निकल गये थे। एसोसिएशन ने इस घटना का संज्ञान लिया और एक प्रस्ताव पारित किया। एसोसिएशन ने अवमानना कार्यवाही करने और दोषी ठहराने की जस्टिस मिश्रा की 'धमकी' पर गहरी चिंता व्यक्त की। प्रस्ताव में कहा गया है कि बार के अनेक सदस्य जस्टिस मिश्रा के व्यवहार और उनके द्वारा व्यक्तिगत टिप्पणियां किये जाने की बार-बार शिकायत कर रहे हैं। प्रस्ताव में कहा गया है कि न्यायालय की गरिमा और शिष्टाचार बनाये रखना वकीलों, न्यायाधीशों का कर्तव्य है। सुप्रीमकोर्ट बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष विकास सिंह ने भी इसी तरह का पत्र अपने उत्तराधिकारी और वरिष्ठ अधिवक्ता राकेश कुमार खन्ना को लिखकर इस घटना की निन्दा करने के लिये बैठक बुलाने का अनुरोध किया है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

मुख्य समाचार

कोविड-19 का टीका बनाने में रूस ने मारी बाज़ी!

कोविड-19 का टीका बनाने में रूस ने मारी बाज़ी!

राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन ने मंगलवार को की घोषणा, अपनी बे...

सुशांत आत्महत्या मामला : रिया की केस ट्रांसफर की याचिका पर फैसला सुरक्षित

सुशांत आत्महत्या मामला : रिया की केस ट्रांसफर की याचिका पर फैसला सुरक्षित

सुप्रीमकोर्ट ने सभी पक्षों से बृहस्पतिवार तक लिखित में मांगे...

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सही दिशा में बढ़ रहा है देश : मोदी

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सही दिशा में बढ़ रहा है देश : मोदी

प्रधानमंत्री ने 10 राज्यों के मुख्यमंत्रियों से की कोरोना पर...

शहर

View All