केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट से झटका

केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट से झटका

kejriwalआर.सेधुरमन/विस नयी दिल्ली, 22 नवंबर केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली की ओर से दायर आपराधिक मानहानि के मुकदमे में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट ने झटका दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने मानहानि के मुकदमे की कार्यवाही पर रोक लगाने के लिये केजरीवाल की याचिका खारिज कर दी। अब पटियाला हाउस कोर्ट में उनके खिलाफ आपराधिक मानहानि का मामला चलता रहेगा। जस्टिस पीसी घोष और जस्टिस उदय यू ललित की पीठ ने याचिका खारिज करते हुए कहा कि साक्ष्य कानून के तहत दीवानी कार्यवाही में सुनाया गया फैसला आपराधिक मामले पर बाध्यकारी नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा ऐसा कोई कानून नहीं है जो यह कहता हो कि सिविल और आपराधिक मामले एक साथ नहीं चल सकते। यह भी कानून नहीं है कि हाईकोर्ट किसी सिविल मामले में कोई आदेश सुनाता है तो उसका असर निचली अदालत में चल रहे आपराधिक केस पर पड़ेगा। केजरीवाल की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी ने कहा कि यदि हाईकोर्ट दीवानी कार्यवाही में फैसला सुनाता है तो अधीनस्थ अदालत को उस मामले में कानून का अनुसरण करना होगा जो उन्हीं तथ्यों और परिस्थितियों पर आधारित हैं। उन्होंने केजरीवाल के खिलाफ निचली अदालत में जेटली द्वारा दायर आपराधिक मानहानि के मुकदमे की कार्यवाही पर रोक लगाने का अनुरोध किया और कहा कि हाईकोर्ट में दीवानी कार्यवाही जारी रहेगी। बता दें कि हाईकोर्ट ने 19 अक्तूबर को निचली अदालत में लंबित आपराधिक मानहानि के मामले की कार्यवाही पर रोक के लिये दायर याचिका यह कहते हुए खारिज कर दी थी कि हाईकोर्ट में दीवानी मानहानि का मुकदमा जारी रखने में कुछ भी गैरकानूनी नहीं है।

जमानत पर केजरीवाल जेटली ने 21 दिसंबर, 2015 को हाईकोर्ट में 10 करोड़ रुपये के हर्जाने का दावा करते हुए दीवानी मानहानि का मुकदमा दायर करने के अलावा निचली अदालत में केजरीवाल और आप पार्टी के 5 अन्य नेताओं राघव चडढा, कुमार विश्वास, आशुतोष, संजय सिंह और दीपक बाजपेयी के खिलाफ आपराधिक मानहानि की शिकायत भी दायर की थी। इसमें आरोप लगाया गया है कि इन सभी ने दिल्ली जिला क्रिकेट एसोसिएशन विवाद में उनकी मानहानि की है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें