अयोध्या फैसले के बाद आतंकी हमलों की थी साजिश

गुवाहाटी, 28 नवंबर (एजेंसी) कुछ ही दिन पहले गिरफ्तार किये गये 3 संदिग्ध आतंकवादियों के बारे में समझा जाता है कि उन्होंने सोशल नेटवर्किंग साइटों से बम बनाना सीखा और उन्होंने अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद असम एवं दिल्ली में शांति में खलल डालने के लिये हमलों की साजिश रची थी। असम विधानसभा में बृहस्पतिवार को संसदीय कार्य मंत्री चंदन मोहन पटवारी ने शून्यकाल के दौरान यह जानकारी दी। पटवारी ने बताया कि तीन संदिग्ध आतंकियों को 25 नवंबर को गिरफ्तार किया गया और उनकी गिरफ्तारी के साथ एक बड़े आतंकी हमले को टाल दिया गया। दिल्ली पुलिस और असम पुलिस के एक संयुक्त अभियान में रंजीत अली, मुकद्दीर इस्लाम और लुइत जमील जमान को गिरफ्तार किया गया था। यह संदेह है कि वे लोग आईएसआईएस से प्रेरित थे। असम के गोवालपारा जिले में चल रहे दूधनोई रास उत्सव में ये लोग विस्फोट करने की कथित तौर पर योजना बना रहे थे। पटवारी ने मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल की ओर से कहा कि इन लोगों ने दिल्ली में भी इसी तरह के विस्फोटों की साजिश रची थी। सोनोवाल के पास गृह विभाग का भी प्रभार है। मंत्री ने बताया कि आईईडी बनाने की चीजें उनमें से दो के घर से जब्त की गई थीं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All