15 से पूरी सवारियों के साथ दौड़ेंगी बसें

ट्रिब्यून न्यूज सर्विस चंडीगढ़, 1 जुलाई हरियाणा में भी पंजाब की तर्ज पर दो सप्ताह बाद रोडवेज की बसें पूरी सवारियों के साथ सड़कों पर उतर सकेंगी। अभी तक सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों के तहत रोडवेज बसों में 52 की जगह 30 ही सवारियों के बैठने की इजाजत है। अनलॉक-2 के अंतर्गत सरकार ने दो सप्ताह बाद बसें चलाने की तैयारी शुरू कर दी है। माना जा रहा है कि 15 जुलाई से हरियाणा में दोबारा पहले की तरह बसें चलेंगी। हरियाणा राज्य परिवहन विभाग ने इस संबंध में पड़ोसी राज्यों के साथ तालमेल शुरू कर दिया है। सरकार का मानना है कि जब तक पड़ोसी राज्यों द्वारा बसों का संचालन नहीं किया जाएगा तब तक हरियाणा को बसें चलाने का कोई लाभ नहीं मिलेगा। हरियाणा में कोरोना व लॉकडाउन के चलते 24 मार्च से एक जून तक बस सर्विस पूरी तरह से बंद रही। पहली जून से सरकार ने अंतर जिला व अंतरराज्यीय बस सेवा शुरू करने का प्रयास किया।

पड़ोसी राज्यों से तालमेल शुरू हरियाणा में अनलॉक वन के दौरान जहां अंतर जिला बसों का संचालन किया गया वहीं अनलॉक-टू के दौरान अंतरराज्जीय बसों का संचालन किया जाएगा। इसके लिए परिवहन विभाग ने पड़ोसी राज्यों के साथ तालमेल शुरू कर दिया है। पंजाब सरकार द्वारा 50 फीसदी यात्रियों की शर्त को हटा लिया गया है। उधर, हिमाचल द्वारा भी छोटे रूट के तहत बद्दी से अंबाला छावनी तक एक बस भेजी जा रही है। ऐसे में यह माना जा रहा है कि इस बार अंतरराज्यीय बसों का संचालन शुरू हो जाएगा।

''अनलॉक वन के दौरान कुछ बसों का संचालन किया जा रहा है। अब बसों को पूरी तरह से खोलने से पहले सभी जिलों से स्टेटस रिपोर्ट मांगी गई है। इसके आधार पर बसों के संचालन, संख्या को बढ़ाने पर फैसला लिया जाएगा। उम्मीद है कि 15 जुलाई से बसों का सुचारू रूप से संचालन शुरू हो जाए। '' -मूलचंद शर्मा, परिवहन मंत्री

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें