हिसार में खुलेगा सिम्युलेटर ट्रेनिंग सेंटर

दिनेश भारद्वाज/ट्रिन्यू चंडीगढ़, 1 जुलाई हिसार एयरपोर्ट पर एयर लाइन पायलट की ट्रेनिंग की प्लानिंग है। यहां सिम्युलेटर ट्रेनिंग सेंटर स्थापित होगा। इसके लिए बुधवार को पहले चरण की बैठक हो गई। सरकारी सेक्टर का देश का यह दूसरा सेंटर होगा। इससे पहले एयर इंडिया के पास ही सिम्युलेटर ट्रेनिंग सेंटर है। वहीं, प्राइवेट कंपनियों में एयरबस के पास गुरुग्राम तो एफएसटीसी ने गुरुग्राम और हैदराबाद तथा सीएई ने नोएडा में सिम्युलेटर सेंटर बनाया हुआ है। बुधवार को चंडीगढ़ में नागरिक उड्डयन मंत्री होने के नाते डिप्टी सीएम दुष्यंत सिंह चौटाला ने सेंटर को लेकर अधिकारियों के साथ अहम बैठक की। इस सेंटर पर बोइंग-737, एयरबस-320 व एटीआर की कमर्शियल फ्लाइंग के लिए ट्रेनिंग हो सकेगी। बोइंग-मैक्स को फिर से मंजूरी मिल गई है। ऐसे में बोइंग-मैक्स की ट्रेनिंग करवाने वाला हिसार का यह पहला सेंटर होगा। 737 का इस एडवांस मॉडल के दो जहाज तकनीकी दिक्कत की वजह से क्रैश हो गए थे। करीब 40 हजार पेड़ हवाई पट्टी के विस्तार के लिए काटने होंगे। केंद्र सरकार से इसके लिए मंजूरी ली जा चुकी है।

ड्रोन ट्रेनिंग सेंटर होगा स्थापित नागरिक उड्डयन के महानिदेशक (डीजीसीए) द्वारा देशभर के लिए जारी की गई सूची में हिसार को शामिल किया गया है। हिसार में ड्रोन ट्रेनिंग सेंटर स्थापित होगा। सरकार की ओर से भिवानी में ड्रोन ट्रेनिंग सेंटर का प्रस्ताव बनाकर भेजा हुआ है लेकिन उस पर अभी तक कोई फैसला नहीं हो सका है। हिसार में फ्लाइंग स्कूल पहले से ही चल रहा है। इसे फिलहाल चलाया जाएगा।

क्या है सिम्युलेटर यह एक तरह की ऐसी मशीन होती है, जो अंदर से बिल्कुल जहाज के कॉकपिट जैसी ही होती है। इसी में बैठकर कमर्शियल जहाजों के लिए ट्रेनिंग होती है। छह दिशाओं में घूमने वाले सिम्युलेटर में नार्मल फ्लाइट के अलावा इमरजेंसी लैंडिंग, वेदर व एक इंजन फेल होने आदि की सूरत में पायलट को क्या करना है, इसके बारे में प्रशिक्षित किया जाता है।

क्या होगा सिम्युलेटर सेंटर में कमर्शियल पायलट के लिए ट्रेनिंग करनी अनिवार्य है। रूटीन ट्रेनिंग के अलावा पायलट की रि-करंट ट्रेनिंग होती है। कई ऐसी कंपनियां हैं, जिनके पायलट को सिम्युलेटर ट्रेनिंग सेंटर नहीं होने की वजह से अमेरिका, सिंगापुर व दुबई आदि देशों में जाना पड़ता है। हिसार का यह सेंटर शुरू होने के बाद कमर्शियल जहाजों के पायलट की यहां ट्रेनिंग हो सकेगी।

हवाई पट्टी का होगा विस्तार बैठक के दौरान दुष्यंत ने हवाई पट्टी के विस्तार के अलावा दूसरी हवाई पट्टियों व फ्लाइंग स्कूल को लेकर भी चर्चा की। हिसार हवाई अड्डे पर नौ एकड़ भूमि में 6 अलग-अलग स्पॉट चिह्नित किए गए हैं। वर्तमान में हिसार में 4500 फुट की हवाई पट्टी है। इसका विस्तार करके 14 हजार फुट किया जा रहा है। हवाई अड्डे से जहाजों की उड़ान भी इसीलिए शुरू नहीं हो पाई क्योंकि हवाई पट्टी की क्षमता उतनी नहीं थी। इसीलिए इसे मजबूत करने और इसका विस्तार करने का फैसला हुआ।

''हिसार में सिम्युलेटर ट्रेनिंग सेंटर स्थापित करने की योजना है। इसके लिए एक दौर की बैठक हो चुकी है। 9 एकड़ जगह चिह्नित की गई है। कमर्शियल जहाजों की ट्रेनिंग यहां दी जा सकेगी। हिसार हवाई अड्डे को अंतरराष्ट्रीय स्तर का एयरपोर्ट बनाया जाएगा। उसी दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। '' -दुष्यंत चौटाला, डिप्टी सीएम

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें