विद्यार्थियों की बनायी पेंटिंग्स पैरों तले रौंदी

विनोद जिंदल/हप्र कुरुक्षेत्र, 4 दिसंबर

कुरुक्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव में बच्चों द्वारा बनायी पेंटिंग्स पर होकर गुजरते लोग। -हप्र

अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव के अवसर पर आयोजकों द्वारा महोत्सव के शुरुआत में ब्रह्मसरोवर के मुख्य गेट के सामने वाली सड़क पर विभिन्न विश्वविद्यालयोंं के विद्यार्थियों द्वारा बहुत सुंदर पेंटिंग्स बनाई गई थी, लेकिन इस समय ये सभी पेंटिंग्स लोगों के पैरों के नीचे पूरी तरह से रौंदी जा चुकी हैं। पेंटिंगों की दुर्दशा देखकर क्षेत्र के लोग आयोजकों पर गुस्सा जता रहे हैं। लोगों का कहना है कि आयोजकों द्वारा पता नही क्यों इन पेंटिंग्स को लोगों के पैरों के नीचे रौंदने के लिए बनवाया गया था वहीं आयोजकों का कहना है कि ये पेंटिंग्स विश्वविद्यालयों के फाइन आर्ट विभाग के बच्चों की एक प्रतियोगिता के अंतर्गत बनाई गई थी। बुधवार को यह मुद्दा गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद के सामने भी बड़े जोरशोर से उठा। उन्होंने कहा कि इस बारे मेें चर्चा की जाएगी ताकि आगे से ऐसा न हो।

भाजपा झंडे के रंग में रंग दिया सरकारी स्कूल

कैथल के गांव नरड़ के स्कूल के पिलरों पर करवाया गया भाजपा के झंडे का रंग। -हप्र

कैथल (हप्र) : गांव नरड़ में प्रिंसीपल ने राजकीय स्कूल में बरामदे के पिलरों को भाजपा पार्टी के झंडे के रंग में रंगवा डाला। बरामदे के पिलर्स पर भाजपा के झंडे के अनुसार ओरेंज और ग्रीन कलर पुतवा दिए। जानकार बताते हैं कि सरकारी नियमों के अनुसार किसी भी पार्टी का सिंबल या झंडे का रंग सरकारी बिल्डिंग पर इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। जब इस विषय में स्कूल के प्रिंसिपल सूबे सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा कि पहले पिलर्स पर तिरंगा रंग किया हुआ था लेकिन बच्चे पैर वगैरा लगा देते थे तो स्कूल मैनेजमेंट ने निर्णय लिया की रंग को चेंज करवा दिया जाए। इस पर उन्होंने ऊपर के रंग के अनुसार सफेद पट्टी पर भी नारंगी रंग करवा दिया। जिला शिक्षा अधिकारी बिजेंद्र सिंह ने कहा कि यह मामला उनके संज्ञान में आया था। पता लगने के बाद तुरंत पिलर्स का रंग बदलवा दिया गया है। प्रिंसिपल या स्टाफ ने किसी पार्टी से प्रेरित होकर रंग नहीं किया था। उन्होंने कहा कि स्कूल के पिलर्स की दीवारों से पुराना रंग हटवाते हुये नया रंग किया जा रहा है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें