फरीदाबाद में शुरू होगा हरियाणा का पहला प्लाज्मा बैंक!

15 दिन में हो जाएगा चालू राजेश शर्मा/हप्र फरीदाबाद, 7 जुलाई ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में प्रदेश का पहला प्लाज्मा बैंक बनाया जाएगा। यह 15 दिनों में चालू हो जाएगा। इससे बनने के बाद कोरोना के गंभीर मरीजों को प्लाज्मा के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। इसके लिए आईसीएमआर और अतिरिक्त मुख्य सचिव आलोक निगम व पी अमरीश ने ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज प्रबंधन और को मंजूरी भी दे दी है। प्लाज्मा बैंक को शुरू करने से पहले कॉलेज प्रबंधन द्वारा एसओपी (स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर) तैयार की जा रही है। कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके मरीजों के शरीर में वायरस के खिलाफ एंटी बॉडी बन जाती है। एंटी बॉडी व्यक्ति के शरीर में रक्त में प्लाज्मा के रूप में मौजूद होती है। कोरोना से ठीक होने वाले व्यक्ति का प्लाज्मा संक्रमित को चढ़ाया जाए तो संक्रमित व्यक्ति में भी एंटी बॉडी बनने लगती है। कोरोना वैक्सीन के बनने तक प्लाज्मा थैरेपी से ही कोरोना के गंभीर मरीज का इलाज संभव है। प्लाज्मा बैंक को विकसित करने के लिए एडवांस तकनीक की मशीनरी उपलब्ध है। इसमें प्लाज्मा को कई दिनों तक सुरक्षित रखा जा सकेगा। बता आईसीएमआर ने प्रदेश में ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज और मेदांता अस्पताल गुरुग्राम को प्लाज्मा थैरेपी से इलाज की अनुमति दी है। अन्य जिलों के मरीजों को भी मिलेगा ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज में प्लाज्मा बैंक बनने के बाद प्रदेश के अन्य जिलों के लोगों को भी इसका लाभ मिलेगा। अन्य जिले के लोग यहां से प्लाज्मा प्राप्त कर सकेंगे। इसके अलावा, निजी अस्पताल प्रबंधन भी ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल से प्लाज्मा ले सकेंगे। इसके लिए उन्हें सरकार द्वारा निर्धारित शुल्क देना होगा। तैयार की जा रही एसओपी ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के डीन डाॅ. असीम दास का कहना है कि हमारी कोशिश है कि कोरोना के मरीजों के इलाज में प्लाज्मा बाधा नहीं बने। इसके लिए प्लाज्मा बैंक बनाने का निर्णय लिया गया है। फिलहाल बैंक की एसओपी तैयार की जा रही है। 15 दिनों में प्लाज्मा बैंक शुरू कर दिया जाएगा।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All