पीटीआई टीचरों का अर्धनग्न प्रदर्शन

यमुनानगर में बुधवार को अर्धनग्न होकर प्रदर्शन करते पीटीआई टीचर। -हप्र

यमुनानगर, 8 जुलाई (हप्र) अध्यापकों के सभी 14 संगठनों द्वारा पीटीआई टीचरों की बहाली की मांग को लेकर किया जा रहा प्रदर्शन आज तेज हो गया। जब सैकड़ों पीटीआई टीचरों के समर्थन में अध्यापकों ने अर्धनग्न होकर शहर के विभिन्न इलाकों में प्रदर्शन किया और सरकार विरोधी नारे लगाए। यमुनानगर के अलग-अलग इलाकों में प्रदर्शन करके पीटीआई टीचरों ने अपनी बहाली की मांग की। हरियाणा में अध्यापकों के 14 संगठन हैं, जिसमें जेबीटी से लेकर डिप्टी डीईओ तक के संगठन शामिल हैं। इन सभी संगठनों ने बर्खास्त किए गए पीटीआई टीचरों की बहाली की मांग को लेकर आंदोलन में सहयोग की घोषणा की है। यमुनानगर में अध्यापक संघ संयुक्त संघर्ष समिति के नेता रामस्वरूप शर्मा ने कहा कि आज अध्यापकों के क्रमिक अनशन का 24वां दिन है, लेकिन सरकार की तरफ से किसी ने भी आकर क्रमिक अनशन स्थल पर इन अध्यापकों की सुध नहीं ली। उन्होंने कहा कि जब तक नौकरी की बहाली नहीं होती तब तक इन अध्यापकों का क्रमिक अनशन जारी रहेगा। अध्यापकों का कहना है कि इन पीटीआई टीचरों की रेगुलर नौकरी थी, जो 10 साल तक इन्होंने सेवा की और इस दौरान राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर मेडल भी दिलवाए, लेकिन फिर भी इनकी अनदेखी की गई। उन्होंने कहा कि इस दौरान 40 पीटीआई टीचरों की मौत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि इन पीटीआई टीचरों में कई ऐसे हैं, जो सरकारी नौकरी छोड़कर पीटीआई टीचर बने थे और आज यह सड़क पर अर्धनग्न होकर प्रदर्शन कर रहे हैं।

कुरुक्षेत्र में बुधवार को सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते पीटीआई शिक्षक। -हप्र

बहाली की मांग को लेकर क्रमिक अनशन जारी कुरुक्षेत्र (हप्र) : हरियाणा शारीरिक शिक्षक संघर्ष समिति का धरना लघु सचिवालय समक्ष 24वें दिन भी जारी रहा। बुधवार को क्रमिक अनशन पर बैठने वालों में सुखविंदर शर्मा, प्रवीण सैनी, सुल्तान सिंह और पंकज शर्मा शामिल रहे। शारीरिक शिक्षक संघर्ष समिति के प्रधान रणधीर सिंह ने बताया कि भाजपा सरकार ने 1983 पीटीआई को कांग्रेसी बता रंजिशन बाहर का रास्ता दिखा दिया। भारतीय किसान यूनियन, सर्व कर्मचारी संघ, वाल्मीकि अम्बेडकर कर्मचारी एसोसिएशन, हरियाणा अनुसूचित जाति राजकीय अध्यापक संघ, सर्व कर्मचारी महासंघ, हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ, पुरानी पेंशन बहाली संघ, राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ व अन्य संगठनों ने मिलकर धरने पर समर्थन दिया। इस अवसर पर रमन शर्मा, अनिल मोर, नरेन्द्र शर्मा, संजीव गुप्ता, श्यामसुंदर, निर्मल थाना, राजेश, कर्मवीर राणा कमला, मनोज, प्रवीण, जयभगवान आदि जिला के सभी पीटीआई व डीपीई उपस्थित रहे। बर्खास्त शारीरिक शिक्षकों को मिला संगठनों का समर्थन करनाल (हप्र) : बर्खास्त शारीरिक शिक्षकों को कर्मचारी व सामाजिक संगठनों का समर्थन मिल रहा है। बुधवार को हरियाणा अतिथि अध्यापक संघ, आल हरियाणा रोडवेज वर्कर यूनियन तथा रोड़ महासभा की ओर से प्रतिनिधियों ने समर्थन देते हुए पीटीआई के संघर्ष में उनके साथ खड़े रहने का वादा किया। इस मौके पर हरियाणा अतिथि अध्यापक संघ के जिला प्रधान राजकुमार ने कहा कि प्रदेश सरकार बार-बार शिक्षकों का अपमान कर रही है। पहले अतिथि अध्यापकों के साथ अन्याय किया गया, अब पीटीआई शिक्षकों को गैर कानूनी तरीके से नौकरी से निकाल दिया गया है। पीटीआई को नौकरी पर वापस रखा जाना चाहिए। इस मौके पर हरियाणा शारीरिक शिक्षक संघ के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष गुरदेव सिंह ने कहा कि पीटीआई अपना हक लेकर रहेंगे। इस अवसर पर हरियाणा शारीरिक शिक्षा अध्यापक संघर्ष समिति के जिला प्रधान संदीप बलड़ी, पूर्व राज्य महासचिव रविंद्र बरानी, सुशील हथलाना, हरियाणा अतिथि अध्यापक संघ के राज्य कोषाध्यक्ष राम कुमार, जिला प्रधान राज कुमार, राज्य उपप्रधान कुलदीप संधु, जिला प्रवक्ता हरिग्रोवर, रोडवेज यूनियन से इंटक के उपप्रधान संजीव कुमार, आल हरियाणा रोडवेज वर्कर यूनियन के प्रधान सुखविंद्र, कालाराम प्रधान तथा ईश्वर सिंह, नीलम रानी, रीना रानी, सुदेश, स्नेहलता व रानी देवी मौजूद रहे।

कैथल में बुधवार को क्रमिक अनशन कर रहे हटाये पीटीआई अध्यापकों के साथ धरने पर बैठे कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला। -हप्र

बर्खास्त पीटीआई अध्यापकों को बहाल करे खट्टर सरकार कैथल (हप्र) : हरियाणा शारीरिक शिक्षक संघर्ष समिति कैथल का क्रमितक अनशन आज 23वें दिन में प्रवेश कर गया। आज धरने की अध्यक्षता राजेश कुमार और मंच संचालन दिलबाग अंटाल ने किया। क्रमिक अनशन पर राजकुमार, सतपाल, वीरेंद्र गोयत और कुलदीप माजरा बैठे। धरने के समर्थन में चौधरी रणदीप सिंह सुरजेवाला प्रेस प्रवक्ता राष्ट्रीय कांग्रेस अपने कार्यकर्ताओं के साथ पहुंचे और अपने विचार रखे। उन्होंने कहा 1983 पीटीआई का कोई भी कसूर नहीं है। उन्होंने मुख्यमंत्री के नाम एक मसौदा तैयार करके संघर्ष समिति को सौंपा। इसे हरियाणा सरकार अपनी विधाई शक्तियों का इस्तेमाल करके कानून बना सकती है। बर्खास्त पीटीआई अध्यापकों को कानून बनाकर खट्टर सरकार बहाल करे। पूंडरी से कांग्रेसी प्रत्याशी सतवीर भाणा, देवेंद्र हंस आजाद प्रत्याशी गुहला ने भी धरने को समर्थन दिया। इसके अलावा धरने पर जरनैल सिंह प्रधान सर्व कर्मचारी संघ कैथल, सुशीला शर्मा राज्य सचिव, ईश्वर डांडा हसला प्रधान कैथल अध्यापक संघ, विजेंद्र मोर जिला प्रधान अध्यापक संघ, रोशन लाल प्रधान, रामपाल शर्मा, विद्या देवी वरिष्ठ उपप्रधान ओमपाल प्रभारी, बूटा सिंह कार्यालय सचिव अध्यापक संघ, पवन कुमार राज्य प्रधान कला अध्यापक संघ, जसवीर सिंह वरिष्ठ प्रधान सर्व कर्मचारी संघ, शकुंतला शर्मा राज्य महासचिव आंगनवाड़ी वर्कर यूनियन, राम निवास शर्मा अध्यापक संघ समेत लगभग 300 सदस्यों ने धरने पर आकर समर्थन किया।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

मुख्य समाचार

101 रक्षा उपकरणों के आयात पर रोक, स्वदेशी को बढ़ावा

101 रक्षा उपकरणों के आयात पर रोक, स्वदेशी को बढ़ावा

आत्मनिर्भर भारत : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का बड़ा ऐलान

कोरोना मामले 21 लाख के पार

कोरोना मामले 21 लाख के पार

एक दिन में रिकॉर्ड 64399 नये मरीज, 861 की मौत

शहर

View All