नया जनादेश मांगने जा रहे जनता की अदालत में : खट्टर

चंडीगढ़, 25 जून (ट्रिन्यू) हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि भाजपा सरकार एक बार फिर से जनता की अदालत में नया मेंडेट (जनादेश) मांगने जा रही है। प्रदेश में भाजपा लगातार दूसरी बार ’75 प्लस’ सीटों के साथ सत्ता में वापसी करेगी। प्रदेश की जनता पूरी तरह से भाजपा के साथ है। लोकसभा चुनावों की तरह विधानसभा में भी भाजपा के ‘समान काम-समान विकास’ और ‘हरियाणा एक-हरियाणवी एक’ के नारे पर अपनी मुहर लगाएगी। मंगलवार को चंडीगढ़ स्थित भाजपा प्रदेश मुख्यालय में मीडिया से रूबरू हुए खट्टर ने कहा, भाजपा का कुनबा लगातार बढ़ रहा है। इससे पूर्व उन्होंने नूंह से इनेलो विधायक जाकिर हुसैन और जुलाना से परमिंद्र सिंह ढुल को भाजपा की सदस्यता ग्रहण करवाई। इस मौके पर रोहतक जिला परिषद के पूर्व चेयरमैन एवं जननायक जनता पार्टी के रोहतक जिलाध्यक्ष धर्मपाल सिंह मकड़ौली, उनके बेटे बलराम मकड़ौली तथा पूर्व विधायक मनीराम गोदारा के भजीते मनोज पाल सहित इनेलो व जेजेपी के कई नेताओं ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला, सहकारिता मंत्री मनीष ग्रोवर, सीएम के मीडिया एडवाइजर राजीव जैन सहित कई वरिष्ठ भाजपा नेता इस दौरान मौजूद रहे। सीएम ने कहा, भाजपा की नीतियों पर सवाल उठाने वाले विपक्षी दलों को लोगों से पूरी तरह से ठुकरा दिया है। फरीदाबाद व गुरुग्राम नगर निगम के चुनावों के बाद पंचायती राज संस्थाओं के चुनावों में भाजपा ने जीत हासिल की। इसके बाद प्रदेश में पांच निगमों में मेयर के सीधे चुनावों में भाजपा ने जीत हासिल की। जींद उपचुनाव में भाजपा ने कांग्रेस के दिग्गज नेताओं को धराशाही कर इस इलाके में पहली बार अपना खाता खोला। विपक्षी दलों पर कटाक्ष करते हुए सीएम ने कहा, इतनी पराजयों के बाद भी विरोधियों ने सरकार पर आरोप-प्रत्यारोप लगाए। राज्य की जनता ने लोकसभा की सभी 10 सीटों पर जीत दिलाकर यह साबित कर दिया है कि वह अब भाई-भतीजावाद, परिवारवाद, क्षेत्रवाद और जातिवाद की राजनीति करने वालों का साथ नहीं देगी। भाजपा सभी को साथ लेकर चलने वाली पार्टी है।

भाजपा और अकाली दल एक परिवार अकाली दल द्वारा हरियाणा में गठबंधन के तहत भाजपा से विधानसभा की 30 सीट मांगने से जुड़े सवाल पर सीएम ने कहा, भाजपा और अकाली दल एक ही परिवार है। हम मिल-बैठकर फैसला कर लेंगे। राम रहीम की पैरोल से जुड़े सवाल पर सीएम ने कहा, पैरोल लेने का अधिकार हर कैदी को है। पैरोल के लिए जेल अधीक्षक के पास अपील की जाती है। राम रहीम के मामले में डीसी और एसपी से रिपोर्ट मांगी गई है। उनकी रिपोर्ट के बाद ही फैसला होगा।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All