गुरुग्राम, फरीदाबाद, पंचकूला में अब 25 एकड़ पर मिलेगा लाइसेंस

चंडीगढ़, 25 जून (ट्रिन्यू) हरियाणा के प्राइवेट कालोनाइजर और बिल्डरों को राज्य की खट्टर सरकार ने बड़ी राहत दी है। प्राइवेट कालोनियों के लिए तय नियमों में बदलाव करते हुए सरकार ने अब छोटे प्लाट्स पर भी कालोनी विकसित करने की मंजूरी देने का निर्णय लिया है। कालोनियों के लिए दिए जाने वाले लाइसेंस के मानदंडों में किया यह बदलाव रियल एस्टेट बिजनेस को बढ़ावा देने वाला साबित हो सकता है। मंगलवार को चंडीगढ़ में सीएम मनोहर लाल खट्टर की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में नियमों में बदलाव की स्वीकृति दी गई। दरअसल, राज्य सरकार ने प्रदेश के शहरों को अलग-अलग जोन में बांटा हुआ है। इन जोन में हाइपर, उच्च, मध्यम और निम्न जोन शामिल हैं। हाइपर जोन में गुरुग्राम, फरीदाबाद और पंचकूला जैसे शहर शामिल हैं। वहीं उच्च जोन में कई बड़े शहरों और मध्यम में बीच के शहरों तथा निम्न में कस्बानुमा छोटे शहरों को शामिल किया गया है। नियमों में बदलाव के साथ कैबिनेट ने दीनदयाल जनआवास योजना के विस्तार को भी हरी झंडी दी है। अभी तक आवासी प्लाटिड कालोनियों के लिए हाइपर और उच्च जोन में 100-100 एकड़ जमीन होने की शर्त थी। नियमों में बदलाव के बाद अब हाइपर जाने में 25 और उच्च जोन में 20 एकड़ जमीन पर भी कालोनी विकसित करने के लिए लाइसेंस मिलेंगे। इसी तरह से मध्यम जाने वाले शहरों में कालोनी के लिए तय 15 और निम्न के लिए 10 एकड़ की शर्त को पहले जैसा ही रखा है।

छोटे शहरों मेंएक एकड़ में भी बन सकेंगे फ्लैट दूसरी ओर, आवासीय समूह आवास यानी फ्लैट्स वाली कालोनियों के लिए तय मानदंड भी बदले गए हैं। सरकार अब हाइपर जोन के लिए 5 एकड़, उच्च के लिए 4 एकड़, मध्यम के लिए दो एकड़ और निम्न के लिए एक एकड़ जमीन पर कालोनी विकसित करने के लिए भी लाइसेंस जारी करेगी। इससे पहले यह हाइपर एवं उच्च के लिए 10-10 एकड़, मध्यम के लिए दो एकड़ और निम्न के लिए एक एकड़ था।

औद्योगिक लाइसेंसिंग  में भी बदलाव एकीकृत औद्योगिक लाइसेंसिंग नीति के लिए क्षेत्र मानदंडों को हाइपर जोन के लिए 25 एकड़, उच्च के लिए 20 एकड़, मध्यम के लिए 15 एकड़ और निम्र के लिए 10 एकड़ तक संशोधित किया गया है। इससे पहले हाइपर जोन एवं उच्च के लिए 50-50 एकड़, मध्यम के लिए 25 एकड़ और निम्न के लिए 15 एकड़ जमीन होने की शर्त थी। नई एकीकृत लाइसेंसिंग नीति के क्षेत्र मानदंड हाइपर जोन के लिए 15 एकड़, उच्च के लिए 10 एकड़, मध्यम के लिए 5 एकड़ और निम्न के लिए 2 एकड़ तक संशोधित किए गए हैं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All