कोरोना को हराने में कैदी दे रहे सहयोग, 6 जेलों में तैयार हो रहे मास्क

रोहतक की सुनारिया जेल में कैदी आजकल मास्क बनाने के कार्य में लगातार जुटे हैं। 

चंडीगढ़, 24 मार्च (ट्रिन्यू) कोरोना को हराने के लिए एक तरफ जहां हरियाणा सरकार व प्रदेश की जनता एकजुट हो गई है वहीं हरियाणा की जेलों में बंद कैदियों ने भी प्राकृतिक आपदा की इस घड़ी में मदद को हाथ बढ़ा दिए हैं। प्रदेश की करीब आधा दर्जन जेलों में कैदियों द्वारा मास्क बनाए जा रहे हैं। जिन्हें स्वयंसेवी संगठनों की मदद से प्रदान किया जा रहा है। हरियाणा में मंगलवार से लॉकडाउन शुरू हो चुका है। यह 31 मार्च तक चलेगा। आने वाले दिनों में स्थिति और गंभीर हो सकती है। खाद्य एवं आपूर्ति विभाग तथा ड्रग्स नियंत्रक विभाग के दावों के बावजूद कैमिस्टों द्वारा मास्क व सेनेटाइजर मनमाने दामों पर बेचने की खबरें आ रही हैं। ऐसे में हरियाणा की जेलों में हत्या, लूटपाट, दुष्कर्म आदि समेत कई जघन्य अपराधों में सजा काट रहे कैदियों ने मास्क बनाकर समाज सेवा शुरू कर दी है। हरियाणा के रोहतक स्थित सुनारियां जेल, फरीदाबाद स्थित नीमका जेल, अम्बाला स्थित केंद्रीय जेल तथा झज्जर स्थित दुलीना जेल में इन दिनों में हजारों की संख्या में कैदियों द्वारा मास्क तैयार किए जा रहे हैं। उक्त जिलों में कई सामाजिक संगठनों द्वारा कैदियों को कच्चा माल मुहैया करवाया जा रहा है। जिससे वह मास्क बनाकर दे रहे हैं। झज्जर स्थित समर्पण वेलफेयर समिति के अध्यक्ष अमित सिंघल के अनुसार उनकी संस्था के वाॅलंटियर जेल में तैयार होने वाले मास्क लेकर पुलिस के आला अधिकारियों की मदद से उन लोगों को मुहैया करवा रहे हैं जो आपातकालीन ड‍्य‍ूटी दे रहे हैं। इसके अलावा जरूरतमंद लोगों को भी मास्क मुहैया करवाए जा रहे हैं ताकि इसकी कालाबाजारी न हो। समाज का हिस्सा हैं कैदी रोहतक के जेल अधीक्षक सुनील सांगवान के अनुसार जेलों में बंद कैदी अथवा हवालाती भी समाज का हिस्सा हैं। इस आपदा की घड़ी में कैदी भी मास्क आदि तैयार करके समाज को यह संदेश देने का प्रयास कर रहे हैं कि भले ही वे जेल के भीतर हैं, लेकिन समाज की मदद का जज्बा उनमें भी कम नहीं है। उन्होंने बताया कि जेलों में तैयार होने वाले मास्क आम लोगों तक पहुंचाने का जिम्मा सामाजिक संगठनों का है। प्रदेश की जेलों में लाखों की संख्या में मास्क तैयार हो चुके हैं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All