30 अप्रैल से वक्री होगी शनि की चाल

मदन गुप्ता सपाटू आगामी 30 अप्रैल से 18 सितंबर तक शनि ग्रह की चाल वक्री रहेगी। ज्योतिष शास्त्र में शनि को कर्म, सेवा, नौकरी का कारक माना जाता है। यह मकर और कुंभ राशि का स्वामी है। सूर्य, चंद्रमा और मंगल को शनि का शत्रु माना जाता है। जबकि, बुध और शुक्र को मित्र व बृहस्पति को सम भाव माना जाता है। शनि इस साल धनु राशि में ही स्थित है। इस वजह से वृष और कन्या राशि पर ढय्या रहेगी। वृश्चिक, धनु और मकर राशि पर साढ़ेसाती का असर रहेगा। शनि के वक्री होने से राशियों पर दिखेगा ऐसा असर... मेष : संयम के साथ काम लेना होगा। जून तक आपके करियर की रफ्तार थोड़ी सुस्त रह सकती है। जून से अक्तूबर के बीच करियर और आय में कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसके बाद परिस्थितियां बदल जाएंगी और भाग्य का साथ मिलेगा। आप किसी भी तरह की प्रतिस्पर्धा में विजयी होंगे। उपाय : गाय को घी लगी रोटी खिलाएं। वृष : इस राशि पर शनि की ढय्या रहेगी। वैवाहिक जीवन में तनाव बढ़ सकता है। खर्चों में बढ़ोतरी होगी। घर-परिवार में क्लेश हो सकता है, अशांति के कारण काम ठीक से नहीं कर पाएंगे। धैर्य से काम लेंगे तो बुरा समय दूर हो सकता है। करियर के लिए समय अच्छा रहने वाला है। निवेश के लिए यह समय सही नहीं होगा। धन हानि हो सकती है। बच्चों की शिक्षा पर अधिक ध्यान देने की जरूरत होगी। विवादों से बचने की कोशिश करें। पिता के साथ अच्छे संबंध बनाये रखें और उनके स्वास्थ्य का ख्याल रखें। उपाय: काले कपड़े और जूते का दान करें। मिथुन : इस राशि में शनि अष्टम और नवम भाव का स्वामी है। ये भाव दीर्घायु, बड़े परिवर्तन, भाग्य और प्रसिद्धि से संबंधित होते हैं। मिथुन राशि के जातकों के लिए समय लाभकारी रहने वाला है। विवादों का अंत होगा। निवेश के लिए भी समय बेहतर रहने वाला है। दोस्तों और परिजनों के साथ अच्छा वक्त गुजारेंगे। माता जी के स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना होगा। उपाय : मध्य अंगुली में काले घोड़े की नाल की अंगूठी पहनें। कर्क : विवादों से बचने की कोशिश करें। कटु भाषा का इस्तेमाल न करें। लगातार यात्राएं करनी पड़ सकती हैं। मानसिक तनाव का सामना करना पड़ सकता है। विषम परिस्थितियों में संयम के साथ काम लें, भाई-बहनों को आपकी मदद की जरूरत पड़ सकती है। घर या कार्यस्थल पर बेवजह के काम और विवादों में उलझने से बचें। आपको बेहतर प्रबंधन के साथ चलना होगा। उपाय: पक्षियों को सतनाजा खिलाएं। सिंह : खर्चों पर नियंत्रण रखना होगा। बिजनेस के लिहाज से समय एकदम अच्छा रहने वाला है। नौकरीपेशा को पदोन्नति की सौगात मिल सकती है या नयी नौकरी का ऑफर मिलने की भी संभावना है। जो पढ़ाई कर रहे हैं, उन्हें कोई बड़ी सफलता मिल सकती है। अविवाहित हैं तो इस साल शादी के बंधन में बंध सकते हैं। उपाय: पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीया जलाएं। कन्या : ढय्या की वजह से इस साल नौकरी में नये अवसर मिल सकते हैं। धन-संपत्ति से लाभ हो सकता है। घर-परिवार में सुखद वातावरण रहेगा। यात्राएं होंगी। वाहन पर खर्च होगा। निवास स्थान में परिवर्तन कर सकते हैं। करियर के क्षेत्र में उन्नति देखने को मिलेगी। किसी भी तरह का निवेश करने से बचें। प्रॉपर्टी से जुड़े मामलों में विवाद की स्थिति बन सकती है। ईश्वर की भक्ति और सत्संग कार्यक्रमों में शामिल होना आपके लिए लाभकारी हो सकता है। उपाय: शनिवार के दिन हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाएं। तुला : छात्रों को उच्च शिक्षा के क्षेत्र में बेहतरीन अवसर मिल सकते हैं। बिजनेस को विस्तार देने की योजना बना सकते हैं। निवेश करने से बेहतर रिटर्न प्राप्त होंगे। आमदनी और खर्च दोनों में बढ़ोतरी होगी। लंबी यात्रा पर जाने की संभावना भी बन रही है। उपाय: बंदर को लड्डू खिलाएं। वृश्चिक : इस राशि के लिए शनि की साढ़ेसाती धन लाभ दिला सकती है। घर-परिवार में सुख-शांति बनी रहेगी। पुराने समय से अटके हुए काम इस साल पूरे हो सकते हैं। करियर में बेहतर अवसर मिल सकते हैं या फिर कामकाज के सिलसिले में विदेश यात्रा करने का अवसर भी मिल सकता है। परिवार से जुड़े विवाद में न उलझें। अपने प्रियजनों से दूर रहना पड़ सकता है। विभिन्न माध्यमों से उनके साथ संपर्क बनाये रखने की कोशिश जारी रखें। उपाय : रोगियों की सेवा करें। धनु : शनि की साढ़ेसाती शुभ रहने वाली है। भूमि-भवन का लाभ मिल सकता है। घर-परिवार और समाज में मान-सम्मान मिलेगा। शासकीय कार्यों में बाधाएं आएंगी, लेकिन धैर्य से काम लें। स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें। शनि आपकी ही चंद्र राशि में गोचर कर रहा है और इसका आपके जीवन पर गहरा प्रभाव होगा। जीवनसाथी के साथ रिश्ते प्रभावित हो सकते हैं, वैवाहिक जीवन में होने वाले हर विवाद को शांतिपूर्ण तरीके से सुलझाएं। जीवनसाथी को सेहत संबंधी समस्याएं हो सकती हैं, उनका विशेष ध्यान रखें। उपाय: मांसाहार और शराब से परहेज करें। मकर : शनि की साढ़ेसाती मकर राशि के लिए चिंताएं बढ़ाएगी। धन संबंधी काम में नुकसान हो सकता है। यात्रा में हानि होने के योग बन रहे हैं। स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा। परिवार में झगड़ा हो सकता है। विवादों से दूर रहेंगे तो अच्छा रहेगा। छात्र हैं तो इस वर्ष उच्च शिक्षा के लिए विदेश जा सकते हैं। कामकाज या अन्य कार्य के सिलसिले में भी विदेश यात्रा का योग है। नौकरी में प्रमोशन संभव है। कार्यस्थल पर मान-प्रतिष्ठा भी बढ़ेगी। उपाय: जटा वाले नारियल नदी में प्रवाहित करें। हनुमान चालीसा का पाठ करें। कुंभ : शनि कुंभ राशि के लिए लग्न और द्वादश भाव का स्वामी है। द्वादश भाव हानि, खर्च, चिकित्सा से संबंधित होता है। वहीं लग्न यानी प्रथम भाव चरित्र, दीर्घायु और व्यक्तित्व को दर्शाता है। कार्यस्थल पर अनेक अवसर मिलेंगे। यह समय आपके लिए हर मामले में बेहद शुभ साबित होगा। पहले की तुलना में आप स्वयं को अधिक ऊर्जावान महसूस करेंगे। आपका झुकाव आध्यात्मिक कार्यों की ओर बढ़ेगा। धन लाभ होने की संभावना है। उपाय : मंदिर में सरसों के तेल का दान करें। मीन : मीन राशि के लिए शनि एकादश और द्वादश भाव के स्वामी हैं। एकादश भाव सफलता, वृद्धि और आय से संबंधित है। निवेश के लिए यह समय न तो अच्छा है और न बुरा है। इस साल नौकरी में परिवर्तन करना आपकी प्रोफेशनल ग्रोथ के लिए अच्छा सिद्ध होगा। आय की तुलना में आपके खर्च बढ़ सकते हैं। जीवनसाथी के साथ विवाद से बचें। दोस्तों या परिजनों के साथ छुट्टी पर जाने के लिए यह समय बेहद अच्छा सिद्ध होगा। उपाय: शनिवार को काले कुत्ते को रोटी दें।

(राशिफल चंद्र राशि के आधार पर)

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

मुख्य समाचार

सीबीआई ने बिहार पुलिस से अपने हाथ में ली जांच

सीबीआई ने बिहार पुलिस से अपने हाथ में ली जांच

सुशांत मामला / नयी प्राथमिकी दर्ज

कश्मीर मसला उठाने की पाक, चीन की कोशिश नाकाम

कश्मीर मसला उठाने की पाक, चीन की कोशिश नाकाम

भारत ने कहा- ऐसे निष्फल प्रयासों से सीख लें

पूर्व मंत्री के बेटे के 16 ठिकानों पर ईडी के छापे

पूर्व मंत्री के बेटे के 16 ठिकानों पर ईडी के छापे

बैंक धोखाधड़ी मामले में पूर्व मंत्री का पुत्र संलिप्त

शहर

View All