हजूर साहिब से लौटे 40 को नहीं घुसने दिया गांव में

राजपुरा, 24 मार्च (निस) कोरोना वायरस की इतनी दहशत है कि देश-विदेश से लौटने वाले हर व्यक्ति को शक की नजर से देखा जा रहा है। ऐसा ही मामला पटियाला के नजदीकी गांव चमारहेड़ी व द्रोण कलां में सामने आया, जब महाराष्ट्र के नांदेड़ में स्थित हजूर साहिब से 40 लोग दर्शन करके अपने-अपने गांव लौटे तो सारे गांव में दहशत का माहौल बन गया। प्राप्त जानकारी के अनुसार उक्त दोनों गांव के लोग बीते दिनों महाराष्ट्र में स्थित हजूर साहिब में दर्शनों के लिए गए हुए थे जब वह दर्शन आदि करके मंगलवार देर शाम अपने-अपने गांव लौटे तो गांववासियों ने उन्हें घुसने नहीं दिया। उनका कहना था कि महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के मरीज बहुत ज्यादा हैं, इसलिए उन्हें डर है कि धार्मिक यात्रा से लौटे लोग कहीं कोरोना की बीमारी तो साथ लेकर नहीं आए। गांव वासियों के विरोध के बाद सेहत विभाग की टीम सभी श्रद्धालुओं को लेकर मंगलवार रात्रि राजपुरा सिविल अस्पताल लेकर आई और सबका चैकअप कर रिपोर्ट सही आने पर सभी को घर भिजवा दिया। गांव के सरपंच बलबीर सिंह ने बताया कि कोरोना के चलते देश भर में फैल रही महामारी को देखते हुए सभी गांव वासियों ने अपने व गांव वालों के फायदे के लिए ही उन्हें चैकअप करवाकर गांव में आने देने की बात कही गई थी। क्या कहते हैं एसएमओ राजपुरा एसएमओ जगइन्द्रपाल सिंह का कहना है कि रात्रि के समय करीब 40 लोगों का शारीरिक तौर पर चैकअप किया गया था। सभी लोग नार्मल थे, चैकअप के बाद सभी को अपने-अपने घरों में भिजवा दिया।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश