सुकून और सेहत का संगम

साउंड मसाज थेरेपी का इतिहास 5000 साल पुराना है। दुनियाभर से लोग बॉडी, माइंड और स्पिरिट रिलेक्सेशन के लिए ये मसाज करवाने भारत आते हैं। भारत के अलावा ये मसाज नेपाल और तिब्बत में भी की जाती है। इसे करवाने के बाद शरीर में नई एनर्जी महसूस होती है, तनाव खत्म हो जाता है और आप अपने आपको पहले से कई गुना बेहतर महसूस करने लगते हैं। जानते हैं साउंड थेरेपी के प्रकार और उनसे होने वाले लाभों के बारे में- मल्टीडाइमेंशनल म्यूजिक थेरेपी माना जाता है कि वाइब्रेशन थेरेपी से शरीर में सकारात्मक बदलाव आते हैं। इससे ब्लड प्रेशर और सांस संबंधी बीमारी भी ठीक होती है। विब्रोकैस्टिक थेरेपी स्वास्थ्य में सुधार और तनाव को कम करने के लिए दी जाती है। इस साउंड थेरेपी में संगीत और ध्वनि कंपन को सीधे शरीर तक पहुंचाया जाता है। एक्सपर्ट के अनुसार कैंसर से पीड़ित लोगों और सर्जरी से उबरने वाले लोगों में दर्द को कम करने के लिए विब्रोकैस्टिक थेरेपी दी जाती है। हीलिंग विद वॉइस ध्वनि के माध्यम से जैसे किसी वीडियो के माध्यम से, एप के माध्यम से या मेडिटेशन क्लास जा कर यह किया जा सकता है। वहीं आप ‘ॐ’ जैसे शब्दों के उच्चारण कर मेडिटेशन कर सकते हैं। इनमें शामिल हैं- तनाव कम कर, चिंता कम कर, याददाश्त बढ़ाकर, शरीर में हो रहे दर्द को कम कर और कोलेस्ट्रॉल कम कर किया जा सकता है। बाइन्यूरल साउंड थेरेपी म्यूजिक थेरेपी तनाव को कम कर सकती है और आप ज्यादा वक्त तक आराम कर सकते हैं। यह सर्जरी से पहले चिंता (तनाव) को कम करने के लिए दी जा सकती है। बाइन्यूरल बीट कान दिमाग को शांत करने में मदद करती है। यह बीट कुछ समय के लिए दिमाग में वेव पैटर्न को बदल देती है। जिससे दिमाग को शांत करने में मदद मिलती है। बाइन्यूरल बीट तनाव को कम करने, नींद में सुधार लाने के साथ चिंता को कम करने में मदद करती है। दिमाग को शांत करने के लिए यह बहुत असरदार होती है। यह चिंता को पूरी तरह से दूर करने से पहले उसके लक्षणों को कम करने में मदद करती है। साइकोज्योमैट्रिक म्यूजिक बोनी मेथड शास्त्रीय संगीत की तरह है। नॉर्डऑफ-रॉबिन्स यह थेरेपी एक्सपर्ट्स द्वारा दी जाती है। इसे बच्चों और उनके माता-पिता को दी जाती है। हीलिंग विद सिंगिंग बाउल्स सिंगिंग बाउल थेरेपी तिब्बती संस्कृति में ज्यादा इस्तेमाल की जाती है। रिलैक्स करने के लिए धातु के एक बाउल (कई धातुओं का कटोरा) से निकलने वाली आवाज़ सुकून देती है। सिंगिंग बाउल से निकलने वाली आवाज़ या संगीत सुनने से कई बीमारियां भी दूर होती हैं। यह नींद न आने की समस्या को भी दूर करती है। यदि आप कुछ घंटे अपना मनपसंद म्यूज़िक सुनते हैं तो तनाव अपने आप दूर हो जाता है। इससे फील गुड हार्मोन का स्राव होता है और दिमांग शांत हो जाता है। सोनिक एक्यूपंक्चर शरीर के अलग-अलग हिस्से में जरूरत के अनुसार वाइब्रेशन देने की प्रक्रिया को ट्यूनिंग फोर्क थेरेपी कहते हैं। इससे तनाव कम होता है और अच्छा महसूस कर सकते हैं। साउंड मसाज थेरेपी में थेरेपिस्ट प्रेशर प्वाइंट पर इस तरह से प्रेस करते हैं कि आपका तनाव गायब हो जाता है। यह दिमाग को आराम पहुंचाने का काम करती है। ये थेरेपी ध्यान और एकाग्रता बढ़ाती है। ब्रेनवेव इनट्रेनमेंट इस थेरेपी से मस्तिष्क को आराम मिलता है। उपचार कैसे किया जाता है इन समस्याओं के लिये कारगर है— घबराहट की बीमारी डिप्रेशन पोस्ट-ट्रोमैटिक डिसऑर्डर पागलपन व्यवहार और मानसिक विकार कैंसर, बिहैवरल और साइकेट्रिक डिसऑर्डर। सीखने में परेशानी महसूस होना। साउंड थेरेपी से होने वाले लाभ तनाव कम करती है। ब्लड प्रेशर नियंत्रित होता है। कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करती है। कोरनरी आर्टरीज़ डिज़ीज़ और स्ट्रोक का ख़तरा कम होता है। अच्छी नींद आती है। साउंड थेरेपी की मदद से आप अपने काम पर फोकस कर सकते हैं। चिंता के लक्षण आपके व्यक्तिगत जीवन पर भी प्रभाव डालते हैं और आपके लाइफस्टाइल में बाधा डालने लगते हैं। इसके लिए साउंड थेरेपी बहुत प्रभावी होती है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All