समय सक्रिय सूखा प्रबंधन नीति का

नयी दिल्ली, 11 सितंबर (एजेंसी) संयुक्त राष्ट्र निकाय खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ) ने कहा है कि अब समय सक्रिय सूखा प्रबंधन नीति अपनाने का है। ग्रेटर नोएडा में हो रहे यूनाइटेड नेशन कन्वेंशन टू कॉम्बैट डेजर्टिफिकेशन के पक्षकारों के 14वें सम्मेलन में एफएओ द्वारा पेश किये गये ‘सूखा तैयारी’ नामक एक रिपोर्ट के प्रमुख संदेशों में से एक है। एफएओ ने कहा कि विश्व में मरुस्थलीकरण, भूमि के क्षरण, सूखे से खाद्य उत्पादन को नुकसान पहुंच रहा है। एफएओ के विश्व में खाद्य असुरक्षा की स्थिति नामक रिपोर्ट के इस साल के संस्करण से संकेत मिलता है कि वर्ष 2012 के बाद से सूखे के प्रति संवेदनशील देशों में कुपोषित लोगों की संख्या में 45.6 प्रतिशत की वृद्धि हुई है और कुल भुखमरी की स्थिति बढ़ रही है। संयुक्त राष्ट्र निकाय के भूमि और जल प्रभाग के निदेशक एडुआर्डो मंसूर ने कहा, ‘भविष्यवाणी, योजना और तैयारियों के आधार पर संकट से जोखिम प्रबंधन की ओर बढ़ने के साथ सूखे के प्रति दृष्टिकोण को बदलने का यह समय है।’ एफएओ द्वारा हाल ही में किए गए देशों के विश्लेषण के अनुसार फसल और पशुधन उत्पादन में महत्वपूर्ण गिरावट आई है। लगभग 22 लाख लोगों के समक्ष खाद्य असुरक्षा की गंभीर स्थिति होने की आशंका है। यह रिपोर्ट खाद्य सुरक्षा की स्थिति कायम करने के लिए सूखे का प्रबंधन करने के प्रति एक नयी दृष्टिकोण देती है। नए अध्ययन में यह भी बताया गया है कि पारिस्थितिकी प्रणालियों को संरक्षित करने के पहले के तौर तरीकों से भी सूखे से निपटने की तैयारियों को मदद मिल सकती है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

मुख्य समाचार

सीबीआई ने बिहार पुलिस से अपने हाथ में ली जांच

सीबीआई ने बिहार पुलिस से अपने हाथ में ली जांच

सुशांत मामला / नयी प्राथमिकी दर्ज

कश्मीर मसला उठाने की पाक, चीन की कोशिश नाकाम

कश्मीर मसला उठाने की पाक, चीन की कोशिश नाकाम

भारत ने कहा- ऐसे निष्फल प्रयासों से सीख लें

पूर्व मंत्री के बेटे के 16 ठिकानों पर ईडी के छापे

पूर्व मंत्री के बेटे के 16 ठिकानों पर ईडी के छापे

बैंक धोखाधड़ी मामले में पूर्व मंत्री का पुत्र संलिप्त

शहर

View All