श्रम संगठनों ने की रोष रैलियां

वीरेन्द्र प्रमोद/निस लुधियाना, 22 मई विभिन्न वामपंथी संगठनों द्वारा आज यहां मिनी सचिवालय में कई राज्यों द्वारा श्रम कानूनों में किये गये परिवर्तनों और काम करने के घंटे आठ घंटे से बढ़ा कर 12 करने के विरोध में संयुक्त प्रदर्शन करने के बाद जिलाधीश प्रदीप अग्रवाल को एक ज्ञापन दिया गया। ज्ञापन प्रधानमंत्री नरेंद्र  मोदी को संबोधित था। विरोध करने वाले छह श्रम संगठनों में इंटक, ऐटक, सीटू और सीटीयू शामिल थे। प्रदर्शनकारियों का आरोप था कि सरकारें कोरोना बीमारी के कारण हुए लाॅकडाउन के परिणामस्वरूप बेरोजगार और अपनी आजीविका के अन्य साधन गंवा कर भूख से तड़पने वाले मजदूरों की समस्याओं से निपटने में बुरी तरह से असफल सिद्ध हुई है। उन्होंने सरकार से असंगठित मजदूरों के लिए कम से कम तीन महीने 75 सौ रुपये प्रति माह देने की मांग की है। प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व कामरेड सवर्ण सिंह, रमेश रत्न, सुखमिंदर सिंह लोटे, हरी सिंह साहनी और राजविंदर सिंह पर आधारित अध्यक्ष मंडल (प्रिजिडियम) कर रहा था।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

नमो गंगे तरंगे पापहारी...

नमो गंगे तरंगे पापहारी...

स्वतंत्रता के संकल्प की बलिदानी गाथा

स्वतंत्रता के संकल्प की बलिदानी गाथा

बुलंद इरादों से हासिल अपना आकाश

बुलंद इरादों से हासिल अपना आकाश

समाज की सोच भी बदलना जरूरी

समाज की सोच भी बदलना जरूरी