लॉ यूनिवर्सिटी पटियाला के कुलपति के इस्तीफे पर ‘असमंजस’

जोगिंद्र सिंह/ट्रिन्यू चंडीगढ़, 22 मई पंजाब विश्वविद्यालय के लॉ विभाग में प्रोफेसर रहे और राजीव गांधी नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी (आरएनएलयू) पटियाला के कुलपति प्रो. पीएस जसवाल के इस्तीफे को लेकर अफवाहों का बाजार गर्म है। हालांकि इसे लेकर अभी तक असमंजस बनी हुई है कि उन्होंने इस्तीफा दिया है या नहीं? बताया जाता है कि पिछले दिनों आरएनएलयू में लॉ की परीक्षा आयोजित करने को लेकर पंजाब के उच्चाधिकारियों से उनकी ठन गयी। पंजाब सरकार का कहना था कि जब 15 मई से 15 जून तक गर्मी की छुट्टियां घोषित हैं, तो यूनिवर्सिटी एग्जाम क्यों करा रही है? बताया जाता है कि कुलपति ने इस पर कहा कि वे पंजाब सरकार के नहीं बल्कि पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के अधीन आते हैं, इसलिये अपने फैसले लेने को स्वतंत्र हैं। बताते तो यहां तक भी है कि बात संबंधित मंत्रालय के मंत्री तक चली गयी। मंत्री और कुलपति के बीच भी जो बातचीत हुई उससे हालात और बिगड़ गये। मंत्री ने यहां तक कह दिया कि वे मंत्री होकर एक फार्च्यूनर से काम चला रहे हैं जबकि आप तीन-तीन सरकारी गाड़ियों का इस्तेमाल कर राजकोष पर बोझ डाल रहे हैं और वो भी चंडीगढ़ में अपने घर पर ये गाड़ियां रखे हुए हैं। सूत्रों का दावा है कि इसी के बाद प्रो. जसवाल ने तीनों गाड़ियां पटियाला भिजवा दी और कथित तौर पर अपना इस्तीफा पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस के सचिव को भिजवा दिया। पूछे जाने पर चीफ जस्टिस के सचिव वी कालड़ा ने कहाकि आज वे दफ्तर नहीं गये इसलिये कुछ बता नहीं सकते, कल आफिस जायेंगे और तभी इस बारे में कुछ बता सकेंगे। वैसे जसवाल फैमिली के नजदीकी सूत्रों का कहना है कि प्रो. जसवाल साहब की सेहत अब ठीक नहीं रहती है जिस कारण वे यह पद छोड़ने पर विचार कर रहे हैं। कुलपति प्रो. पीएस जसवाल से बार-बार संपर्क साधने के प्रयास विफल रहे।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

नमो गंगे तरंगे पापहारी...

नमो गंगे तरंगे पापहारी...

स्वतंत्रता के संकल्प की बलिदानी गाथा

स्वतंत्रता के संकल्प की बलिदानी गाथा

बुलंद इरादों से हासिल अपना आकाश

बुलंद इरादों से हासिल अपना आकाश

समाज की सोच भी बदलना जरूरी

समाज की सोच भी बदलना जरूरी