माओवादियों ने बनायी ताजा रणनीति!

नयी दिल्ली, 26 फरवरी (भाषा)। खुफिया एजेंसियों का कहना है कि भाकपा-माओवादी ने 2012 में सुरक्षाबलों के नक्सल विरोधी अभियान से निपटने के लिए कोबरा, विशेष कार्रवाई बल, विशेष टास्क फोर्स जैसी विशिष्ट इकाइयों को निशाना बनाने की योजना तैयार की है। खुफिया एजेंसियों से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, 'एजेंसियों की ओर से केन्द्रीय गृह मंत्रालय को इस संबंध में सौंपी गई एक रपट में कहा गया है कि माओवादी नेतृत्व ने कोबरा, विशेष कार्रवाई बल, आंध्र प्रदेश राज्य खुफिया ब्यूरो, विशेष टास्कफोर्स और कोया कमांडो जैसी विशिष्ट इकाइयों को निशाना बनाने के निर्देश जारी किए हैं।' कोबरा केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) द्वारा नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए गठित विशेष कमांडो इकाई है, जिसका पूरा नाम 'कमांडो बटालियन फार रिसोल्यूट एक्शन' है जबकि कोया कमांडो छत्तीसगढ़ पुलिस के तहत गठित विशेष इकाई का नाम है, जो नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए बनी है। अधिकारी ने कहा कि भाकपा-माओवादी ने सुरक्षाबलों के नक्सल विरोधी अभियान के खिलाफ ताजा रणनीति तैयार की है और खुफिया एजेंसियों ने आगाह किया है कि वे कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु की आपस में सट रही सीमाओं वाले इलाके में अपना आधार बना रहे हैं। बताया जाता है कि माओवादियों की हमलावर फौज 'पीपुल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी(पीएलजीए) को निर्देश दिया गया है कि वह कैडरों की तेजी से भर्ती कर उन्हें हथियारों का प्रशिक्षण दे। रपट में दावा किया गया कि 2011 में वामपंथी उग्रवाद से प्रभावित इलाकों की समीक्षा में खुफिया एजेंसियों ने यह भी जिक्र किया था कि माओवादियों के लिए काम कर रहे संगठनों ने दिल्ली, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान जैसे राज्यों मेें अपनी गतिविधियां चालू की हैं। समीक्षा रपट में कहा गया कि नक्सल हिंसा का केन्द्र अब नये इलाकों में फैल रहा है, जिसमें ऊपरी असम और छत्तीसगढ-ओडिशा सीमा के इलाके प्रमुखता से शामिल हैं। उत्तर प्रदेश (मैनपुरी, अलीगढ और कानपुर जिले) और उत्तराखंड (नैनीताल, अल्मोड़ा एवं देहरादून जिले) के कुछ हिस्सों में माओवादियों के लिए काम कर रहे संगठनों की गतिविधियों में तेजी की खबर है। रपट में यह दावा भी किया गया है कि दिसंबर 2011 के पहले सप्ताह में 'पीएलजीए सप्ताह' मनाया गया और इस दौरान भाकपा-माओवादी की उत्तराखंड-उत्तर प्रदेश समन्वय समिति ने कुमाऊं क्षेत्र में संगठन से सहानुभूति रखने वालों से कहा कि वे सशस्त्र कृषि क्रान्ति के लिए क्षेत्र में पीएलजीए की इकाई बनायें। रपट के मुताबिक भाकपा-माओवादी का दक्षिण-पश्चिम क्षेत्रीय ब्यूरो कर्नाटक के कुछ हिस्सों में अपनी सशस्त्र क्षमताओं को मजबूत करने के लिए सक्रिय है। ऐसा भी समझा जाता है कि कर्नाटक में वायनाड से मैसूर के बीच जंगल का रास्ता बनाने की योजना है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All