मसला गंभीर, कई जनरलों ने खुद बढ़ा लिया था कार्यकाल

इस्लामाबाद, 27 नवंबर (एजेंसी) पाकिस्तान के सुप्रीमकोर्ट ने सेना प्रमुख के कार्यकाल में विस्तार से जुड़े नियमों पर बुधवार को सवाल उठाये। मीडिया रिपोर्ट्स में चीफ जस्टिस के हवाले से कहा गया है, ‘सेना प्रमुख के कार्यकाल का विषय बहुत अहम है। अतीत में, पांच या छह जनरलों ने खुद ही अपने कार्यकाल में विस्तार कर लिया। हम मामले पर करीब रूप से गौर करेंगे ताकि भविष्य में यह नहीं हो। यह अत्यधिक अहम विषय है और संविधान इस बारे में खामोश है।' गौरतलब है कि पाकिस्तान सेना ने देश के 70 साल से अधिक के इतिहास में इसकी आधी से भी अधिक अवधि तक शासन की बागडोर संभाली है। यहां उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री इमरान खान ने 19 अगस्त को एक आधिकारिक अधिसूचना के जरिये जनरल बाजवा को तीन साल का कार्यकाल विस्तार दिया था। बाजवा का मूल कार्यकाल 29 नवंबर को समाप्त होने वाला है। चीफ जस्टिस आसिफ सईद खोसा ने मंगलवार को कानूनी खामियों का हवाला देते हुए सरकार के आदेश को निलंबित कर दिया था। शीर्ष न्यायालय के इस आदेश के बाद कैबिनेट ने सेना नियम एवं नियमन की धारा 255 में संशोधन किया और नियम में कानूनी खामी को दूर करने के लिये ‘कार्यकाल में विस्तार' शब्द शामिल किया। इस मसले पर पाक सुप्रीमकोर्ट के तीन न्यायाधीशों की पीठ ने बुधवार को सुनवाई की। पाक के सेवानिवृत्त सैन्य जनरल को नियुक्ति इस्लामाबाद (एजेंसी) : पाकिस्तान सरकार ने हाल ही में गठित चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा प्राधिकरण के पहले अध्यक्ष के तौर पर लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) असिम सलीम बाजवा को नियुक्त किया है। सीपीईसी प्राधिकरण का गठन इस मकसद के साथ किया गया कि अरबों डॉलर की परियोजनाओं का काम समय से पूरा हो सके। सीपीईसी सड़कों, रेलवे और ऊर्जा परियोजनाओं का नियोजित नेटवर्क है जो चीन के संसाधन संपन्न शिनजियांग उइगर स्वायत्त क्षेत्र को अरब सागर पर पाकिस्तान के सामरिक रूप से महत्वपूर्ण ग्वादर बंदरगाह से जोड़ेगा।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें