प्रेमियों की आह करेगी स्वाह

तिरछी नज़र

कुमार विनोद

बात-बेबात किसी के भी गिरेबान को पलक झपकते ही पकड़ लेने वाले, दुनिया के सबसे ताकतवर कहे जाने वाले हाथ भी आज अपने ही चेहरे को छूने से कतरा रहे हैं। ऐसे में, सीएए के धुर-विरोधियों जैसी दादागीरी दिखाते हुए, नागरिकता संबंधी कागजों के बिना ही ‘घुसपैठिए’ चाइनीज़ कोरोना वायरस ने भी पूरे भारतवर्ष में जगह-जगह अपने गैर-कानूनी ठिकाने बनाने शुरू कर दिये हैं। राह चलते लोगों को आपस में नमस्ते करता देखकर, दुनियाभर में बदनाम होने के बावजूद, मिस्टर कोरोना को यह देखकर अपने ऊपर गर्व हो आया कि चलो उसके डर से ही सही, यहां के लोग एक-दूसरे से हाथ मिलाकर, हैलो-हाय बोलकर अभिवादन करना छोड़, नमस्ते वाली अपनी पुरातन संस्कृति की ओर लौट रहे हैं और दुनिया के अन्य देशों को भी इसके लिए प्रेरित कर रहे हैं। दवाइयों की एक दुकान के सामने से गुजरते हुए अदृश्य कोरोना ने देखा कि दवा विक्रेता द्वारा मास्क के दाम एमआरपी से भी अधिक मांगे जाने पर ग्राहक गुस्से में बोला कि भाई साहब हो सकता है कि आने वाले समय में पूरी दुनिया ही कोरोना की चपेट में आकर नष्ट हो जाये, आप खुद ही बताइये ऐसे में आप गलत तरीके से पैसे कमाकर क्या करेंगे। यह सुनकर भी दुकानदार पूरी निर्लज्जता से बोला कि भाई साहब, जब सारी दुनिया नष्ट होने ही वाली है तो ऐसे में आप भी पैसे बचाकर क्या करोगे, रही बात मास्क की, वह तो इतने ही दाम में मिलेगा, लेना है तो लो, वैसे भी यह आखिरी पीस है और आप के पीछे भी कई लोग अपनी बारी के इंतज़ार में हैं। इससे पहले कि ग्राहक पलटकर कोई जवाब देता, कोरोना चुपचाप वहां से खिसक गया। रास्ते में लोगों की आपसी बातचीत सुनकर उसे पता चला कि देश के नेताओं ने एहतियातन मिलने-जुलने के कार्यक्रमों में भाग लेने से मना कर दिया था। बात यहां तक होती तो भी ठीक था, लेकिन इसके चलते कई प्रेमिकाओं ने भी अपने-अपने प्रेमी संग ऑफलाइन बातचीत खेलने से मना कर दिया है, जिसके परिणामस्वरूप प्रेमियों के टूटे दिलों से निकली दर्द भरी आह सुनकर कोरोना को ऐसे लग रहा था कि जैसे उसके कान फट जाएंगे। भले ही पूरी दुनिया में उसका इलाज़ न ढूंढ़ा जा सका हो, लेकिन इन प्रेमियों के दिलों की अतल गहराइयों से निकली अनगिनत बददुआएं उसे अब जीने नहीं देंगी।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश